Monday , December 18 2017

राहुल मुस्ताफ़ी होजाएं: सोनिया को राज नाथ का मश्वरा

सदर बी जे पी राज नाथ सिंह ने सोनिया गांधी पर जवाबी वार करते हुए कहा कि अगर उन के (सोनिया) के दिल में वज़ीर-ए-आज़म का ज़र्रा बराबर भी एहतिराम है तो वो फ़ौरी तौर पर राहुल गांधी को ये हुक्म दें कि वो कांग्रेस की नायब सदारत से मुस्ताफ़ी होजाए

सदर बी जे पी राज नाथ सिंह ने सोनिया गांधी पर जवाबी वार करते हुए कहा कि अगर उन के (सोनिया) के दिल में वज़ीर-ए-आज़म का ज़र्रा बराबर भी एहतिराम है तो वो फ़ौरी तौर पर राहुल गांधी को ये हुक्म दें कि वो कांग्रेस की नायब सदारत से मुस्ताफ़ी होजाए या फिर सज़ा याफ़ता अरकान पार्लीमान के आर्डीनेंस पर दिए गए अपने बयान पर माज़रत ख़्वाही करें।

एक प्रेस कान्फ़्रेंस से ख़िताब करते हुए राज नाथ सिंह ने कहा कि उन्हें सोनिया जी का एक बयान पढ़ कर इंतिहाई ताज्जुब हुआ, जहां उन्होंने बी जे पी पर वज़ीर-ए-आज़म का मजाक‌ उड़ाने का इल्ज़ाम आइद किया था जबकि ऐसी कोई बात नहीं है। सोनिया जी को यही कहूंगा कि वो उस वक़्त अपनी साख बनाने या शर्मनाक चेहरा को छिपाने की कोशिश ना करें।

जिस शख़्स ने वज़ीर-ए-आज़म का मजाक‌ उड़ाया वो बी जे पी नहीं बल्कि ख़ुद कांग्रेस के नायब सदर राहुल गांधी है। बी जे पी ने आज तक वज़ीर-ए-आज़म के वक़ार और एहतिराम को कायम‌ रखा है। राज नाथ सिंह ने एक बार फिर अपनी बात दुहराते हुए कहा कि अगर सोनिया जी के दिल में वज़ीर-ए-आज़म का ज़र्रा बराबर भी एहतिराम बाक़ी है तो वो राहुल गांधी को फ़ौरी तौर पर कांग्रेस के नायब सदर के ओहदा से मुस्ताफ़ी होजाने की हिदायत करें।

राज नाथ सिंह ने एक चुभती हुई और हक़ीक़त से क़रीबतर बात कही कि जिस वक़्त वज़ीर-ए-आज़म बैरून-ए-मुल्क के दौरे पर होते हैं तो वो किसी मख़सूस पार्टी के वज़ीर-ए-आज़म नहीं होते बल्कि पूरे मुल्क की नुमाइंदगी करने वाले आला तरीन क़ाइद होते हैं। उनकी ग़ैरमौजूदगी(वज़ीर-ए-आज़म हाल ही में अमेरिका के दौरे से वापिस हुए हैं) में आर्डीनैंस को ना माक़ूल क़रार देते हुए उसे फाड़ कर फेंक देने की बात करने से वज़ीर-ए-आज़म के बैरूनी दौरा का मक्सद को ही फ़ौत हो जाता है।

TOPPOPULARRECENT