Tuesday , December 12 2017

राहूल अभी पीएम उम्मीदवार नहीं

कांग्रेस वर्किंग कमेटी (सीडब्ल्यूसी) की जुमेरात को हुई मीटिंग में पार्टी ने राहुल को वज़ीर-ए-आज़म उम्मीदवार ऐलान करने के बजाय उनकी क़ियादत में इलेक्शन लड़ने का फ़ैसला लिया।

कांग्रेस वर्किंग कमेटी (सीडब्ल्यूसी) की जुमेरात को हुई मीटिंग में पार्टी ने राहुल को वज़ीर-ए-आज़म उम्मीदवार ऐलान करने के बजाय उनकी क़ियादत में इलेक्शन लड़ने का फ़ैसला लिया।

सीडब्ल्यूसी के इजलास में ज़्यादा तर लीडरों ने राहुल को वज़ीर-ए-आज़म उम्मीदवार ऐलान करने का मुतालिबा उठाया।. सब से पहले केरला के रियास्ती सदर रमेश चेन्निथला ने राहुल ने नाम पर मुहर लगाने को कहा। इस के बाद ख़वातीन कांग्रेस सदर शोभा ओझा भी बोलीं। जब तमाम स्पीकर मुसलसल ये मुतालिबा करने लगे, तो कांग्रेस सदर ने मुदाख़िलत करते हुए इस मुतालिबे को मुस्तरद कर दिया। उन्होंने कहा कि इंतिख़ाबात से पहले कांग्रेस में वज़ीर-ए-आज़म उम्मीदवार ऐलान करने की रिवायत नहीं है।

इजलास के बाद पार्टी जनरल सेक्रेटरी जनार्दन द्विवेदी ने कहा, कांग्रेस सदर के मुताबिक़ ये ज़रूरी नहीं कि एक पार्टी ( बीजेपी) के उम्मीदवार का ऐलान करने के बाद हम भी उनके मुताबिक़ उम्मीदवार क़रार दें। लोकसभा इंतिख़ाबात की इंतिख़ाबी मुहिम की क़ियादत राहुल करेंगे। ये सवाल करने पर कि क्या इंतिख़ाबात जीतने की पोज़ीशन में राहुल वज़ीर-ए-आज़म बनेंगे। उन्होंने कहा , पार्टी में सोनिया गांधी के बाद दूसरा मुक़ाम राहुल गांधी का है।
बहरहाल , लोकसभा इंतिख़ाबात राहुल की क़ियादत में लड़ने का ऐलान कर कांग्रेस ने बीजेपी उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के मुक़ाबले से बचने की कोशिश की है। इसके साथ ही कारकुनों को ये इशारा दिया है कि राहुल गांधी मुस्तक़बिल के लीडर हैं। पार्टी जनरल सेक्रेटरी जनार्दन द्विवेदी ने कहा कि कांग्रेस में कभी ये सवाल नहीं उठा कि जीत के बाद वज़ीर-ए-आज़म कौन होगा।

राहुल गांधी ने कहा कि में कांग्रेस का वक़्फ़ कारकुन हूँ . पार्टी लोक सभा इंतिख़ाबात के पेशे नज़र मुझे जो भी ज़िम्मेदारी देगी , में उसे निभाउंगा।

TOPPOPULARRECENT