Thursday , December 14 2017

रिटायर्ड फ़ौजी आफीसर को लड़के के क़त्ल पर उम्र क़ैद

तेज़ी से मुक़द्दमात की समाअत करने वाली अदालत ने एक रिटायर्ड फ़ौजी ओहदेदार के राम राज को एक 13 साला लड़के को जो कि आर्मी ऑफीसर की क़ियामगाह में बादाम चुनने दाख़िल हुआ था कि क़त्ल कर देने की पादाश में उम्र क़ैद की सज़ा सुनाई।

तेज़ी से मुक़द्दमात की समाअत करने वाली अदालत ने एक रिटायर्ड फ़ौजी ओहदेदार के राम राज को एक 13 साला लड़के को जो कि आर्मी ऑफीसर की क़ियामगाह में बादाम चुनने दाख़िल हुआ था कि क़त्ल कर देने की पादाश में उम्र क़ैद की सज़ा सुनाई।

अदालत ने उन्हें 60 हज़ार रुपये जुर्माना भी आइद किया, जिस में 50 हज़ार रुपये महलूक लड़के दिलशान के अरकान ख़ानदान को अदा करने की हिदायत दी। जज ने क़ातिल राम राज को क़ौमी क़ानून के दो दफ़आत के तहत क़सूरवार पाते हुए 10 हज़ार रुपये जुर्माना के साथ 3 और एक साल की क़ैद का मुस्तहिक़ क़रार दिया।

इन तमाम सज़ाओं का एक साथ इतलाक़ होगा।

महलूक लड़के दिलशान की माँ के कलेवानी ने अदालत के अहाता में अख़बारी नुमाइंदों को बताया कि वो इस फ़ैसला से ख़ुश है और ये एक बेहतरीन फ़ैसला है।

इस में हर किसी के लिए एक सबक़ होगा। दुनिया में कहीं भी कभी भी इस तरह के वाक़्यात वक़ूअ पज़ीर नहीं होने चाहीए। वकील इस्तेग़ासा ने मीडीया को बताया कि इस मुक़द्दमा के दौरान 55 गवाहों पर ज़िरह की गई ।

TOPPOPULARRECENT