Tuesday , December 12 2017

रियासती असेंबली का 12 दिसमबर से सरमाई सेशन

रियासती क़ानूनसाज़ असेंबली को बाक़ायदा मुकम्मिल तौर पर मुल्तवी करने से मुताल्लिक़ जारी तनाज़ा की आज उस वक़्त यकसूई होगई जबकि रियासती काबीना ने जारीया माह 12 दिसमबर से असेंबली का सरमाई सेशन मुनाक़िद करने का फ़ैसला किया।

रियासती क़ानूनसाज़ असेंबली को बाक़ायदा मुकम्मिल तौर पर मुल्तवी करने से मुताल्लिक़ जारी तनाज़ा की आज उस वक़्त यकसूई होगई जबकि रियासती काबीना ने जारीया माह 12 दिसमबर से असेंबली का सरमाई सेशन मुनाक़िद करने का फ़ैसला किया।

ए राम नारायण रेड्डी वज़ीर फाइनैंस और दुसरे वुज़रा ने अख़बारी नुमाइंदों से बातचीत करते हुए इस बात का इन्किशाफ़ किया और बताया कि असेंबली मीटिंग की मुद्दत का ताय्युन रियासती असेंबली की बिज़नस एडवाइज़री कमेटी करेगी।

बताया जाता हैके इस मसले पर काबीना के मीटिंग में गर्मा गर्म मुबाहिस हुए और उन मुबाहिस के बाद ही असेंबली मीटिंग तलब करने या ना करने का जारी तनाज़ा बिलआख़िर आज ख़त्म होगया।

ज़राए ने बताया कि अगर असेंबली मीटिंग के दौरान अलाहिदा तेलंगाना की तशकील से मुताल्लिक़ मुसव्वदा बिल आने की सूरत में इस बिल को क़ानूनसाज़ असेंबली में पेश किया जाएगा और ज़रूरत पड़ने पर असेंबली में मुबाहिस की तकमील के लिए जारी असेंबली मीटिंग की मुद्दत में तौसीअ देने के लिए भी इक़दामात किए जाऐंगे।

असेंबली मीटिंग का इनइक़ाद दस्तूर की रोशनी के मुताबिक़ कम से कम छः माह की मुद्दत ख़त्म होने से पहले तलब किया जाना चाहीए।

TOPPOPULARRECENT