Tuesday , December 12 2017

रियासत की तक़सीम के फ़ैसले से दसतबरदारी पर ज़ोर

आंध्र प्रदेश नान गज़ीटेड ऑफीसरस एसोसीएशन् ( ए पी एन जी औज़ एसोसीएशन ) ने मुल्क की चार रियासतों में शिकस्त फ़ाश पर कम अज़ कम आँख खोल लेने और रियासत की तक़सीम के ज़रीये अलाहिदा रियासत तेलंगाना की तशकील अमल में लाने के फ़ैसला से फ़ौरी दसतबरदार

आंध्र प्रदेश नान गज़ीटेड ऑफीसरस एसोसीएशन् ( ए पी एन जी औज़ एसोसीएशन ) ने मुल्क की चार रियासतों में शिकस्त फ़ाश पर कम अज़ कम आँख खोल लेने और रियासत की तक़सीम के ज़रीये अलाहिदा रियासत तेलंगाना की तशकील अमल में लाने के फ़ैसला से फ़ौरी दसतबरदारी इख़तियार कर लेने का मर्कज़ी हुकूमत से पुरज़ोर मुतालिबा क्या।

आज यहां ए पी एन जी औज़ भवन में मुनाक़िदा एक मीटिंग के बाद अख़बारी नुमाइंदों से बातचीत करते हुए अशोक बाबू सदर ए पी एन जी औज़ एसोसीएशन ने ये बात कही और बताया कि मुत्तहदा रियासत जद्द-ओ-जहद में शिद्दत पैदा की जाएगी और 12 दिसमबर से पहले एक कुल जमाती मीटिंग तलब करने और रियासत की तक़सीम से मुताल्लिक़ बिल में पाई जाने वाली ख़ामीयों से मुताल्लिक़ सदर जमहूरीया हिंद को रिपोर्ट पेश की जाएगी।

उन्होंने सीमांध्र से ताल्लुक़ रखने वाले मर्कज़ी वुज़रा को अपनी सख़्त तन्क़ीद का निशाना बनाया और कहा कि इन तमाम मर्कज़ी वुज़रा को चाहीए कि वो अपनी आँखें खोल लें और 19 अरकान पार्लीमान सीमांध्र से तहरीक अदमेएतेमाद नोटिस पेश करने का मुतालिबा क्या।

TOPPOPULARRECENT