रियासत में बर्क़ी कटौती के आसार

रियासत में बर्क़ी कटौती के आसार

ए पी ट्रांस्को के सदर नशीन-ओ-मेनीजिंग डाइरेक्टर अजय जैन ने कहा कि रियासत में मर्कज़ की तरफ़ से गैस की मुनासिब सरबराही होने या आबी ज़ख़ाइर(तालाब) में पानी का काफ़ी बहाउ होने तक बर्क़ी सरबराही में कटौती नागुज़ीर होजाए गी। उन्हों ने

ए पी ट्रांस्को के सदर नशीन-ओ-मेनीजिंग डाइरेक्टर अजय जैन ने कहा कि रियासत में मर्कज़ की तरफ़ से गैस की मुनासिब सरबराही होने या आबी ज़ख़ाइर(तालाब) में पानी का काफ़ी बहाउ होने तक बर्क़ी सरबराही में कटौती नागुज़ीर होजाए गी। उन्हों ने कहाकि मंडलों में रोज़ाना चार घंटे और डिस्ट्रिक्ट हैड क्वार्टर्स में दो घंटे बर्क़ी सरबराही में कटौती की जाएगी। उन्हों ने बहरहाल ये कहा कि किसानों के लिए सात घंटे बर्क़ी सरबराही को यक़ीनी बनाया जाएगा।

उन्हों ने कहाकि हुकूमत ने मौसम-ए-गर्मा में बर्क़ी तलब की तकमील के लिए तमाम तर कोशिशें कीं लेकिन इस में नाकाम रही है क्योंकि मर्कज़ ने बर्क़ी पैदावार में इज़ाफ़ा के लिए दरकार मुख़तस ग़ियास फ़राहम नहीं की। चीफ़ मिनिस्टर किरण कुमार रेड्डी ने मर्कज़ को मकतूब इरसाल किए हैं और अपील की है कि काफ़ी मिक़दार में ग़ियास फ़राहम की जाय। अजय जैन ने कहाकि ग़ियास की कमी की वजह से गैस असासी बर्क़ी प्रोजेक्टस मैं बर्क़ी की पैदावार सिर्फ़ 32 फ़ीसद हुई है।

उन्हों ने कहा कि नाकाफ़ी बारिश की वजह से रियासत के आबी ज़ख़ाइर में सतह आब 95 टी एमसी तक घट गई है। गुज़श्ता साल सतहे आब 348 टी एमसी थी। उन्हों ने कहा कि ए पी ट्रांस्को ने 1450 मैगावाट बर्क़ी की ख़रीदी के लिए आर्डर दिए थे। लेकिन दूसरी रियास्तों से सिर्फ 776 मैगावाट बर्क़ी ख़रीदी जा सकी।

Top Stories