Monday , December 18 2017

रियास्ती वज़ीर-ए-क़लीयती बहबूद अहमद उल्लाह कई मौक़ूफ़ा जायदादों-ओ-आराज़ीयात से लाइलम

हैदराबाद ।१५। अगस्त : ( नुमाइंदा ख़ुसूसी ) : रियास्ती वज़ीर-ए-क़लीयती बहबूदमुहम्मद अहमद अल्लाह और सदर नशीन वक़्फ़ बोर्ड मौलाना ख़ुसरो पाशाह को कई मौक़ूफ़ा जायदादों आराज़ीयात और मसाजिद के बारे में इलम ही नहीं है । वो ये भी नहीं जानत

हैदराबाद ।१५। अगस्त : ( नुमाइंदा ख़ुसूसी ) : रियास्ती वज़ीर-ए-क़लीयती बहबूदमुहम्मद अहमद अल्लाह और सदर नशीन वक़्फ़ बोर्ड मौलाना ख़ुसरो पाशाह को कई मौक़ूफ़ा जायदादों आराज़ीयात और मसाजिद के बारे में इलम ही नहीं है । वो ये भी नहीं जानते किईदगाह मीर आलम की अराज़ी का वक़्फ़ रिकार्ड में जो इंदिराज है वो ग़लत है । रियास्ती वज़ीर-ए-क़लीयती बहबूद मुहम्मद अहमद अल्लाह ने सदर नशीन वक़्फ़ बोर्ड ख़ुसरो पाशाह के हमराह ईद अलफ़तर के इंतिज़ामात का जायज़ा लेने आज ईदगाह मीर आलिम पहूंचे थे । उन्हों ने क़दीम ईदगाह मादना पेट और ईदगाह उजाले शाह साहबऒ सईद आबाद का भी तफ़सीली मुआइना करते हुए इंतिज़ामात का जायज़ा लिया ।

ईदगाह मीर आलम में इंतिज़ामात का जायज़ा लेने के बाद उन्हों ने सरकारी मह्कमाजात के ओहदेदारों और सदर नशीन वक़्फ़ बोर्ड के हमराह मीडीया नुमाइंदों से बातचीत भी की । सियासत के नुमाइंदाख़ुसूसी के कई सवालात पर रियास्ती वज़ीर-ए-क़लीयती बहबूद बार बार चौंक पड़े जब कि सदर नशीन वक़्फ़ बोर्ड मौलाना ख़ुसरो पाशाह की कैफ़ीयत भी मुहम्मद अहमद अल्लाह सेमुख़्तलिफ़ नहीं थी । ईद अलफ़तर के इंतिज़ामात के लिए गुज़शता 15 यौम से ईदगाह मीर आलम की साफ़ सफ़ाई-ओ-आहक पाशी का काम जारी है जब कि ईदगाह के बिलकुलअक़ब में कचरे के ढेर लाकर डाले जाते हैं ।

इस बारे में सवाल पर जनाब अहमद अल्लाह ने फ़ौरी वहां मौजूद जी ऐच एमसी के आला ओहदेदारों को हिदायत दी कि वो कचरे की जल्द अज़ जल्द निकासी का इंतिज़ाम करें । ईदगाह मीर आलम में दाख़िल होने के रास्ते पर कमान की तामीर से मुताल्लिक़ हुकूमत और वज़ारत अक़ल्लीयती बहबूद-ओ-औक़ाफ़ के वाअदा के बारे में पूछे गए सवाल पर रियास्ती वज़ीर-ए-क़लीयती बहबूद ने कहा कि उन्हें इस जानिब तवज्जा नहीं दिलाई गई थी इस लिए आइन्दा साल रमज़ान से पहले कमान कीतामीर की जाएगी । नुमाइंदा ख़ुसूसी ने वज़ीर-ए-क़लीयती बहबूद को ये बताया कि वक़्फ़ गज़्ट मैं ईदगाह मीर आलम की अराज़ी को 11100 मुरब्बा गज़ बताया गया है जब कि कई एकड़ अराज़ी पर ये ईदगाह मुहीत है । वो हैरत में पड़ गए ।

और ये पूछे जाने पर कि आख़िर इतनी कम अराज़ी का यही गज़्ट में ज़िक्र करने की वजह किया है । वज़ीर-ए-क़लीयती बहबूद और ख़ुसरो पाशाह एकदूसरे के मुंह तकते रह गए । दोनों से कोई जवाब ना बन पड़ा । मुहम्मद अहमद अल्लाह ने बड़ी मुश्किल से सवाल को टालते हुए अपने सैक्रेटरी को हिदायत दी कि वो इस बात को ख़ुसूसी तौर पर नोट करे ।

नुमाइंदा ख़ुसूसी ने रियास्ती वज़ीर-ए-क़लीयती बहबूद को जब ये बताया कि ज़ौ 380 एकड़ अराज़ी पर फैला हुआ है और इस में 60 एकड़ अराज़ी वक़्फ़ बोर्ड की है । इस बारे में वक़्फ़ बोर्ड क्या इक़दामात कररहा है कि इस सवाल पर भी रियास्ती वज़ीर-ए-क़लीयती बहबूद अहमद अल्लाह ने लाइलमी का इज़हार किया जब कि सदर नशीन वक़्फ़ बोर्ड ने इस बात का एतराफ़ किया कि ज़ौ की 60 एकड़ अराज़ी मौक़ूफ़ा है ।

रियास्ती वज़ीर-ए-क़लीयती बहबूदऔर सदर नशीन वक़्फ़ बोर्ड की हालत इसी सवाल पर देखने से ताल्लुक़ रखती थी जिस में ज़ौ में वाक़्य एक ग़ैर आबाद मस्जिद के बारे में इस्तिफ़सार किया गया था । दोनों नेवाज़िह तौर पर कहा कि वो इस मस्जिद के बारे में नहीं जानते । इसी तरह मस्जिद बाग़आम्मा के बारे में भी किए गए एक सवाल पर भी रियास्ती वज़ीर के साथ साथ सदर नशीन वक़्फ़ बोर्ड हैरत में पड़ गए ।

नुमाइंदा ख़ुसूसी ने सवाल किया था कि बाग़ आम्माकी मस्जिद 14000 गज़ पर फैली हुई है लेकिन अब सिर्फ 10 हज़ार गज़ ज़मीन ही रिकार्ड में बताई जा रही है आख़िर 4000 गज़ ज़मीन कहां गई ? रियास्ती वज़ीर-ए-क़लीयतीबहबूद ने लाइलमी का इज़हार किया जब कि वहां मौजूद आला ओहदेदार भी कुछ देर के लिए एकदूसरे को देखते रह गए ।

बहरहाल मीडीया से बातचीत से क़बल अहमद अल्लाह ने तमाम मह्कमाजात पुलिस ( ला ऐंड आर्डर ) ट्रैफ़िक पुलिस , जी ऐच एमसी , इमारात-ओ-शवारा , आर टी सी वग़ैरा के आली ओहदेदारों के हमराह तीनों ईदगाहों का तफ़सीली दौरा किया । इस मर्तबा ईदगाह मीर आलम में छोटी मीनारें नसब की गईं हैं , इस मर्तबा आहकपाशी , रंग-ओ-रोगन और सफ़ाई के लिए 2.80 लाख रुपय की मंज़ूरी दी है । महिकमा वाटर वर्क़्स ने बताया कि ईद के मौक़ा पर पीने के पानी के 8 टैंकस लगाए जाऐंगे । ताकि ईद की नमाज़ अदा करने के लिए आने वालों को आसानी हो सके ।

महिकमा बर्क़ी के ओहदेदारों ने बताया कि ईदगाह मीर आलम में 160 के वे का एक अलहदा ट्रांसफ़ारमर लगाया जाएगा । इस के लिए एमरजैंसी के लिए एक जनरेटर भी तैय्यार रखा गया है ।

वज़ीर-ए-क़लीयती बहबूद मुहम्मद अहमद अल्लाह और मौलाना ख़ुसरो पाशाह के हमराहइस दौरे में दाना किशवर सैक्रेटरी महिकमा अक़ल्लीयती बहबूद , एन रवी कुमार ज़ोनल कमिशनर बलदिया , ए सी पी राम मोहन साउथ ज़ोन जी ऐस पांडा दास आई ए ऐस ई डी वाटर वर्क़्स वजए लक्ष्मी डिप्टी कमिशनर जी ऐच एमसी वग़ैरा भी मौजूद थे ।

बताया जाता है कि ईदगाह मादना पेट में नमाज़ ईद अलफ़तर 10 बजे और ईदगाह मीर आलम में भी 10 बजे ही होगी । ख़तीब मक्का मस्जिद मौलाना अबदुल्लाह क़ुरैशी इलाज़ हरी इमामत करेंगे । जब कि मौलाना जाफ़र पाशाह और मौलाना सैफ-अल्लाह के ख़ताबात होंगे ।।

TOPPOPULARRECENT