Friday , August 17 2018

रीटेल में एफडी आई : मुल्क मआशी गु़लामी की जानिब गामज़न : राज नाथ सिंह

वाराणसी, 14 दिसंबर: ( पीटीआई) बी जे पी के सीनीयर क़ाइद राज नाथ सिंह ने आज एक अहम बयान देते हुए कहा कि रीटेल में एफडी आई की इजाज़त से मुल्क मआशी गु़लामी का शिकार हो जाएगा । पार्लीमेंट के सरमाई इजलास के इख़तताम के बाद उनकी पार्टी मुल्क गीर

वाराणसी, 14 दिसंबर: ( पीटीआई) बी जे पी के सीनीयर क़ाइद राज नाथ सिंह ने आज एक अहम बयान देते हुए कहा कि रीटेल में एफडी आई की इजाज़त से मुल्क मआशी गु़लामी का शिकार हो जाएगा । पार्लीमेंट के सरमाई इजलास के इख़तताम के बाद उनकी पार्टी मुल्क गीर पैमाने पर एफडी आई के ख़िलाफ़ मुहिम चलाएगी ।

अपनी बात जारी करते हुए उन्होंने कहा कि मुल्क में इंसानी वसाइल की कोई कमी नहीं है और हुकूमत को रीटेल के शोबा बैरूनी रास्त सरमायाकारी की क़तई ज़रूरत नहीं है । मिस्टर राज नाथ सिंह यहां एक शादी में शिरकत के लिए आए हुए हैं । उन्होंने कहा कि एफडी आई किसानों के लिए क़तई सूदमंद नहीं है और ये बात साबित भी हो चुकी है ।

बस एक बार पार्लीमेंट का सरमाई इजलास ख़त्म हो जाने दीजिए इसके बाद पार्टी मुल्क गीर सतह पर रीटेल में एफडी आई और बदउनवानीयों के ख़िलाफ़ अपनी मुहिम का आग़ाज़ करेगी । उन्होंने कहा कि 2014 इंतिख़ाबात के लिए पार्टी अपने उम्मीदवारों के नामों का अनक़रीब ऐलान करेगी हालाँकि उम्मीदवारों को क़तईयत देने का अमल का आग़ाज़ हो चुका है ।

फ़िलहाल इतना कह सकता हूँ कि साबिक़ मर्कज़ी वज़ीर मुरली मनोहर जोशी वाराणसी से पार्टी के उम्मीदवार बरक़रार रहेंगे । अलबत्ता उन्होंने पार्लीमेंट हमले के मुल्ज़िम अफ़ज़ल गुरु को फांसी पर ना लटकाए जाने पर हैरत का इज़हार किया । अजमल क़साब की फांसी के बाद ये तवक़्क़ो की जा रही थी कि अफ़ज़ल गुरु की कहानी भी ख़त्म कर दी जाएगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ ।

अजमल क़साब के तहफ़्फ़ुज़ पर हुकूमत ने करोड़ों रुपये ख़र्च किए और ऐसा ही कुछ अफ़ज़ल गुरु के साथ भी हो रहा होगा । बस अब बहुत हो चुका ! अफ़ज़ल गुरु की कहानी भी ख़त्म कर दी जाए तो ये बाब हमेशा के लिए बंद हो जाएगा । उन्होंने ख़ुसूसी तौर पर इन किसानों का तज़किरा किया जिनके क़र्ज़ा जात माफ़ किए जा चुके हैं लेकिन क़र्ज़ा जात की माफ़ी की भी कुछ शराइत थीं जिनका एस पी हुकूमत ने अपने इंतिख़ाबी मंशूर में तज़किरा नहीं किया है।

एस पी हुकूमत की जानिब से अक़्लीयती फ़िर्क़ा के तलबा की तालीम के लिए माली इमदाद का तज़किरा करते हुए राज नाथ सिंह ने कहा कि तालीमी इमदाद की फ़राहमी के लिए ज़ात पात और मज़हब की बुनियाद पर इमतियाज़ी रवैय्या इख्तेयार नहीं किया जाना चाहीए ।

TOPPOPULARRECENT