Friday , December 15 2017

रीलीफ़ की तक़सीम में बदइंतेज़ामी,अफरा तफरी

कश्मीर के मुतास्सिरा इलाक़ों में रीलीफ़ की तक़सीम एक अहम मसला बन गया है और मुक़ामी इंतेज़ामीया के ना होने की वजह से अफरा तफरी की कैफ़ीयत पाई जाती है। शहर के कई इलाक़ों महजूर नगर , रामबाग ,जवाहर नगर वग़ैरा में राहत कारी अशीया पहुंचने के बाद

कश्मीर के मुतास्सिरा इलाक़ों में रीलीफ़ की तक़सीम एक अहम मसला बन गया है और मुक़ामी इंतेज़ामीया के ना होने की वजह से अफरा तफरी की कैफ़ीयत पाई जाती है। शहर के कई इलाक़ों महजूर नगर , रामबाग ,जवाहर नगर वग़ैरा में राहत कारी अशीया पहुंचने के बाद उन की तक़सीम के मसले पर मुतास्सिरीन के मुख़्तलिफ़ ग्रुप्स में तकरार और झड़प होगई।

एक मुअम्मर ख़ातून ने बताया कि ऐसे वाक़ियात मामूल बन चुके हैं, जो ताक़तवर होता है वो ज़्यादा सामान हासिल कर लेता है जबकि कमज़ोर लोग सिर्फ़ देखते रह जाते हैं। एक और शख़्स ने कहा कि राहत कारी अशीया की तक़सीम में बड़े पैमाने पर बे क़ाईदगीयाँ होरही हैं।

बाज़ मुक़ामात पर मुहल्ले जाती कमेटीयों ने राहतकारी अशीया की तक़सीम का मूसिर निज़ाम तर्तीब दिया है लेकिन बाज़ मुक़ामात पर अफ़रातफ़री और बदइंतेज़ामी पाई जाती है। एक शख़्स ग़ुलाम मुहम्मद ने कहा कि हम ने बोलेंटियर्स‌ का एक ग्रुप तशकील दिया जो राहत कारी अशीया की मुसावियाना और मूसिर तक़सीम कररहे हैं।

हुक्काम की जानिब से रेड़ियो पर मुसलसल पयामात जारी किए जा रहे हैं और तवक़्क़ो है कि इस बदइंतेज़ामी को जल्द दूर करलिया जाएगा।

TOPPOPULARRECENT