Wednesday , December 13 2017

रुक-रुक कर फटे आठ सिलिंडर, दहला इलाका

वेटनरी कॉलेज कैंपस में बनीं 50 झोंपड़ियां जल कर खाक हो गयीं। अगलगी में आठ बड़े सिलिंडर एक-एक कर फटने लगे। धमाके की आवाज से इलाका दहल उठा। आग इतनी तेजी से फैली कि लोगों ने किसी तरह अपनी जान और सो रहे बच्चों को बाहर निकाला।

वेटनरी कॉलेज कैंपस में बनीं 50 झोंपड़ियां जल कर खाक हो गयीं। अगलगी में आठ बड़े सिलिंडर एक-एक कर फटने लगे। धमाके की आवाज से इलाका दहल उठा। आग इतनी तेजी से फैली कि लोगों ने किसी तरह अपनी जान और सो रहे बच्चों को बाहर निकाला।

सामान निकालने तक का वक़्त नहीं मिला। सात दमकल की गाड़ियां जायेहादसा पर पहुंचीं और करीब दो घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया. मौके पर सिटी एसपी जयंतकांत, सदर एसडीओ पंकज दीक्षित, सचिवालय डीएसपी डॉ शिबली नोमानी दल-बल के साथ पहुंचे और मदद काम में जुट गये। मुतासिर की फेहरिस्त बनायी गयी और उन्हें सरकारी दस्तूरुल अमल के मुताबिक नगद और मदद के सामान दी गयी।

खाना बनाने के दौरान लगी आग : आग लगने की वजह खाना बनाना बताया जाता है। तकरीबन 12 बजे मशरिक़ की तरफ बनी एक झोंपड़ी में आग लगी और वह धीरे-धीरे बढ़ने लगी। उस झोंपड़ी में रहनेवाले लोग निकल कर बाहर भागे। इसी दरमियान उस झोंपड़ी में रखे सिलिंडर ब्लास्ट कर गये। सिलिंडर ब्लास्ट होने की वजह उसके टुकड़े भी काफी दूर गिरने लगे। इस वजह से एक कतार से सात झोंपड़ियां जल कर खाक हो गयीं। आधे घंटे के अंदर ही पचास झोंपड़ी जल कर खाक हो गयीं।

हर साल अगलगी : जिस जगह पर आग लगी है, वहां गुजिशता दो साल से आग लग रही है। पहले यहां सिर्फ बांस और फूस की झोंपड़ियां थीं, लेकिन बाद में लोगों ने मिट्टी की दीवार खड़ी कर ली। बावजूद तीसरी बार यहां आग लगी।

इन लोगों को हुआ ज्यादा नुकसान

टुनटुन पासवान, सारो देवी, सुनील कुमार, संतोष राम, रामाशंकर साव, सुधा देवी, रंजन मंडल, अजरुन राम, अनोज साव, रामनाथ, विजय कुमार, बृजनंदन राम, प्रकाश पासवान, गायत्री देवी, कलावती देवी, अशोक पासी, गोरख साव, छठी देवी व रंजन कुमार समेत पचास लोगों की झोंपड़ियां जल गयीं. टुनटुन पासवान की बकरी भी जल गयी.

TOPPOPULARRECENT