Thursday , December 14 2017

रुबात पर जनाब ज़ाहिद अली ख़ां की नुमाइंदगी क़ाबिल-ए-सिताइश

आज़मीने हज्ज के लिए रबात की सहूलत से इस्तेफ़ादा में रुकावटों पर रोज़नामा सियासत और एडीटर जनाब ज़ाहिद अली ख़ां की तवज्जा दहानी और ख़बरों के बाद सेंट्रल हज कमेटी की सिफ़ारिश पर शुक्रिया अदा करते हुए आज़िम मुहम्मद उम्र अली ख़ान (बशीर ब

आज़मीने हज्ज के लिए रबात की सहूलत से इस्तेफ़ादा में रुकावटों पर रोज़नामा सियासत और एडीटर जनाब ज़ाहिद अली ख़ां की तवज्जा दहानी और ख़बरों के बाद सेंट्रल हज कमेटी की सिफ़ारिश पर शुक्रिया अदा करते हुए आज़िम मुहम्मद उम्र अली ख़ान (बशीर बाग़) ने कहा कि ये बिलकुल सही और वक़्त के तक़ाज़े के मुताबिक़ है।

मजमूई तौर पर ये मंशाए वक़्फ़ नहीं है। एक मुक़द्दस फ़रीज़ा के तहत रबात में आज़मीन की रिहायश ज़रूरी और आसानी का बाइस है। उम्र अली ख़ान ने इस ज़िमन में सियासत के ज़रीया मुसबत आवाज़ बुलंद करने जनाब ज़ाहिद अली ख़ान की कोशिशों की सराहना की और जो आज़मीने हज्ज की सहूलत और रिहायश रुबात में मुमिद-ओ-मुआविन रही।

TOPPOPULARRECENT