Saturday , December 16 2017

रुशदी का वीज़ा मंसूख़ किया जाए: दार-उल-उलूम देवबंद

मुज़फ़्फ़र नगर,१० जनवरी (पी टी आई) मलऊन मुसन्निफ़ सलमान रुशदी के दौरा हिंद की मुख़ालिफ़त करते हुए इस्लामी दरसगाह दार-उल-उलूम देवबंद ने आज कहा कि हुकूमत को इस का वीज़ा मंसूख़ कर देना चाहीए क्योंकि इस ने मुस्लमानों के मज़हबी एहसासात माज़ी में म

मुज़फ़्फ़र नगर,१० जनवरी (पी टी आई) मलऊन मुसन्निफ़ सलमान रुशदी के दौरा हिंद की मुख़ालिफ़त करते हुए इस्लामी दरसगाह दार-उल-उलूम देवबंद ने आज कहा कि हुकूमत को इस का वीज़ा मंसूख़ कर देना चाहीए क्योंकि इस ने मुस्लमानों के मज़हबी एहसासात माज़ी में मजरूह किए थे।

65 साला रुशदी जिस पर उस की नावल शैतानी कलिमात के सबब दुनिया भर के मुस्लमानों ने लानत मलामत की, इस माह के अवाख़िर जयपुर लिटरेचर फ़ैस्टीवल में शिरकत करने वाला है।

हिंदूस्तानी हुकूमत को इस का वीज़ा मंसूख़ कर देना चाहीए क्योंकि रुशदी ने माज़ी में मुस्लमानों के मज़हबी जज़बात भड़काए थे, मौलाना अब्दुलु कासिम नामानी, नायब मुहतमिम दार-उल-उलूम ने एक ब्यान में ये बात कही।

उन्हों ने ज़ोर दिया कि हुकूमत को रुशदी के ख़िलाफ़ मुस्लमानों के एहसासात को मल्हूज़ रखना चाहीए। रुशदी की नावल शैतानी कलिमात ने जिस पर हिंदूस्तान की जानिब से पाबंदी आइद की गई, मुस्लिम दुनिया में काफ़ी ब्रहमी पैदा कर दी थी, जिस में इस के ख़िलाफ़ ईरान के रुहानी रहनुमा अयातुल्लाह खुमैनी की जानिब से 14 फ़बरोरी 1989 को फ़तवा जारी किया गया था। हिंदूस्तानी नज़ाद रुशदी क़ब्लअज़ीं 2007-ए-में गुलाबी शहर जयपुर मैं मुनाक़िदा बड़े अदबी प्रोग्राम में शरीक हुआ था।

TOPPOPULARRECENT