अहिले हदीस ने आईएस के खिलाफ फतवा जारी किया

अहिले हदीस ने आईएस के खिलाफ फतवा जारी किया

अहिल हदीस, जो एक बड़े कट्टरपंथी सुन्नी मुस्लिम संप्रदाय के रूप में जाना साता है, जो इस्लाम के कट्टरपंथी ब्रांड का अनुकरण करता है, और अब उसने भी फतवा जारी कर “आतंकवादी रणनीति” और इस्लामिक स्टेट (आईएस) को “अन-इस्लामिक” के रूप में घोषित कर दिया है। यह घोषणा इसके चीफ ने बुधवार को 9-10 मार्च तक चलने वाले सम्मेलन में कहा। 2007 में, यूपी के देवबंद में प्रभावशाली दारूल उलूम ने एक समान आतंकवाद विरोधी घोषणापत्र जारी किया था, लेकिन यह पहली बार है कि एक प्रमुख धार्मिक रूढ़िवादी ग्रुप जिसे सलफिस्ट के रूप में पहचाना गया है। यह घोषणा किया है।

समूह के नेता ने बताया कि फतवे को नई दिल्ली के मुकाबली जमीयत अहले हदिश हिंद से जुड़े 40 वरिष्ठ विद्वानों द्वारा समर्थन दिया गया है, इस समूह का प्रतिनिधित्व करने वाला मुख्य संगठन मौलाना असगर अली इमाम महदी सलफ़ी ने बताया, कि 15 फरवरी, 2015 को “दाइश के आत्म-निर्मित खलीफा” के खिलाफ एक असाधारण “फतवा” के आदेश को सार्वजनिक रूप से दोहराया गया है। आईएस अरबी में दाइश के रूप में जाना जाता है। माना जाता है कि इसमें भारतीयों की संख्या कम है और राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने आधिकारिक तौर पर 7 मार्च, 2017 को मध्य प्रदेश में ट्रेन विस्फोट के लिए इस समूह को फंसाया था। अहले हदीस को उत्तर भारत में 19वीं सदी के इस्लामिक आंदोलन के रूप में स्थापित किया गया था।

सलफिजम को कई विश्लेषकों द्वारा उद्धृत किया गया है जो अलकायदा और अन्य जिहादी संगठनों को मार्गदर्शक वैचारिक नियमों का मार्गदर्शन किया गया है। सलफ़ी ने कहा की “यह घोषणा से हमारे युवाओं को आईएसआईएस द्वारा प्रलोभित होने से रोकेगा …” सलफी ने कहा देश में अनुमानित 40,000 मदरसा या धार्मिक स्कूल अहले हदीस संप्रदाय से संबद्ध हैं।

हाल के वर्षों में कई मुस्लिम सामाजिक संगठनों ने आतंकवाद का विरोध किया है। दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया में इस्लामिक स्टडीज के पूर्व प्रमुख अख्तरुल वासी ने कहा “मुझे लगता है कि यह हमारे संविधान, हमारी न्यायपालिका और नागरिक समाज है जो न्याय के महान अवसर हैं। यह भारतीय इस्लामी मॉडल को एकमात्र व्यावहारिक मॉडल बनाती है … “

Top Stories