Wednesday , December 13 2017

रूस बशारुल असद पर दबाव नहीं डालेगा

मास्को 9 मार्च (एजेंसीज़) रूस ने कहा है कि इस बात का कोई इमकान नहीं कि मास्को शाम के सदर बशारुल असद को इक़तिदार छोड़ने का कहेगा। रूसी वज़ीरे ख़ारजा सर्गई लावरोफ़ ने बताया कि उन का मुल्क ममलकत को तबदील करने के खेल में शामिल नहीं है।

मास्को 9 मार्च (एजेंसीज़) रूस ने कहा है कि इस बात का कोई इमकान नहीं कि मास्को शाम के सदर बशारुल असद को इक़तिदार छोड़ने का कहेगा। रूसी वज़ीरे ख़ारजा सर्गई लावरोफ़ ने बताया कि उन का मुल्क ममलकत को तबदील करने के खेल में शामिल नहीं है।

उन्हों ने कहा में सिर्फ़ ये कहना चाहता हूँ कि हम ने इस बात का फ़ैसला नहीं करना कि शाम की रहनुमाई कौन करेगा? ये शाम के बाशिंदों का काम है। जब उन से पूछा गया कि आया ऐसा कोई इमकान है कि रूस शाम के सदर बशारुल असद को इक़तिदार से अलग होने का मश्वरा देगा तो उन्हों ने कहा क़तअन नहीं।

रूस रिवायती तौर पर शामी हुकूमत का क़रीबी हलीफ़ रहा है और वो शाम को हथियार फ़राहम करने वाला सब से बड़ा मुल्क है। अक़वामे मुत्तहिदा के अंदाज़े के मुताबिक़ शाम के सदर बशारारल असद के ख़िलाफ़ दो साल पहले शुरू होने वाली बग़ावत में अब तक 70,000 अफ़राद मारे जा चुके हैं।

अक़वामे मुत्तहिदा का कहना है कि शाम में जारी तनाज़े में अब तक दस लाख शामी बैरून मुल्क नक़्ले मकानी कर चुके हैं जबकि 25 लाख दीगर अंदरून मुल्क नक़्ले मकानी पर मजबूर हुए हैं।

TOPPOPULARRECENT