Monday , December 18 2017

रेन वाटर हारवेस्टिंग सिस्टम के लिए ज़बरदस्त मुहिम

मजलिस बलदिया (एम सी एच) की जानिब से मानसून की आमद से क़ब्ल बड़े पैमाने पर रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम की तामीर के लिए मुहिम चलाई जाएगी। कमिशनर जी एच एम सी मिस्टर एम टी कृष्णा बाबू ने आज तमाम ज़ोनल कमिश्नर्स के हमराह कान्फ़्रैंस क

मजलिस बलदिया (एम सी एच) की जानिब से मानसून की आमद से क़ब्ल बड़े पैमाने पर रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम की तामीर के लिए मुहिम चलाई जाएगी। कमिशनर जी एच एम सी मिस्टर एम टी कृष्णा बाबू ने आज तमाम ज़ोनल कमिश्नर्स के हमराह कान्फ़्रैंस के इनइक़ाद के ज़रीया इस मंसूबा से वाक़िफ़ करवाते हुए कहा कि मजलिस बलदिया (एम सी एच)बारिश के पानी को जमा करते हुए ज़ेर ज़मीन (जमीन के नीचे)सतह आब (पानी का लेवल) में इज़ाफ़ा के लिए छः हज़ार से ज़ाइद रेन वाटर हार्वेस्टिंग स्ट्रकचरस की तामीर का मंसूबा रखती है।

उन्हों ने ज़ोनल कमिश्नर्स को बताया कि 6 करोड़ रुपये के ख़र्च से स्ट्रकचरस की तामीर अमल में लाई जाएगी। इस मंसूबा के तहत हर ज़ोन में 1500 ढाँचे तय्यार किए जाएंगे। मिस्टर कृष्णा बाबू ने बताया कि इस ढांचा की तय्यारी पर 10 हज़ार रुपये ख़र्च किए जाएंगे जब कि बज़रीया टेनडर कंट्टरएक्टर्स को अलॉट किए जाएंगे। उन्हों ने बताया कि अगर कोई गैर सरकारी तंज़ीम भी इस काम को करने आगे आती है तो 20 ढाँचों का काम गैर सरकारी तंज़ीम को नामज़दगी की असास पर हवाले किया जाएगा।

कमिशनर बलदिया ने ज़ोनल कमिश्नर्स को हिदायत दी कि वो ख़ानगी(पराइवेट) जायदाद मालकीन में भी शऊर बेदार करें ताकि ज़ेर ज़मीन (जमीन के नीचे)सतह आब में इज़ाफ़ा को यक़ीनी बनाया जा सके। उन्हों ने बताया कि जिन जायदाद मालकीन के पास खुली जगह मौजूद हो, वो बारिश के पानी को महफ़ूज़ करने इस तरह के ढाँचे तामीर करते हुए शहर में पानी की क़िल्लत को दूर कर सकते हैं।

मजलिस बलदिया (एम सी एच)ने इंजीनिरिंग कॉलिजस और डिग्री कॉलिजस के इलावा अवाम में भी रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम तय्यार करने शऊर बेदार करने का फैसला किया है। इस सिलसिले में रयालयों के इनइक़ाद का फैसला किया गया है। मिस्टर कृष्णा बाबू ने बताया कि कॉलिजस के अतराफ़ इलाक़ों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग ढाँचों की तय्यारी के लिए 5 लाख रुपये ख़र्च करने का मंसूबा है।

TOPPOPULARRECENT