Wednesday , April 25 2018

रेप की कोशिश में राबिया का चाकुओं से गोद डाला था शरीर, शव को सड़क पर रखकर लोगों ने किया प्रदर्शन

उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ में बलात्कार का विरोध करने पर की गई राबिया नामक महिला की हत्या के मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी और मुआवजे की मांग को लेकर परिजनों ने सड़क पर शव रखकर सड़क जाम कर लगाया।

नगर कोतवाली क्षेत्र के टेऊंगा गांव में महिला की हुई हत्या से आक्रोशित लोगों ने सोमवार को दोपहर घर के सामने प्रतापगढ़-रायबरेली मार्ग जाम कर दिया। वह सभी आरोपियों की गिरफ्तारी, शस्त्र लाइसेंस, आवास, आर्थिक सहायता देने और डीएम, एसपी को बुलाने की मांग कर रहे थे। डेढ़ घंटे तक चला जाम मांगें पूरी करने के अफसरों के आश्वासन पर समाप्त हो गया। उधर, महिला की हत्या में पांच लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करके दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और तीन लोगों को हिरासत में लिया है।

टेऊंगा गांव में दुष्कर्म के प्रयास का विरोध करने पर राबिया बानो की हुई हत्या से आक्रोशित लोग सुबह लगभग नौ बजे से जुटने लगे थे। तनाव को देखते हुए एसडीएम सदर पंकज वर्मा, सीओ सिटी रामचंद्र, प्रभारी कोतवाल बलराम ¨सह फोर्स के साथ सुबह लगभग साढ़े नौ बजे पहुंच गए। आक्रोशित लोग अफसरों से हत्या के सभी आरोपियों को गिरफ्तार करने, मृतका के बेटे को शस्त्र लाइसेंस, 20 लाख रुपये की आर्थिक सहायता व सरकारी नौकरी देने, आवास देने की मांग कर रहे थे। एसडीएम, सीओ ने मांगों को पूरी करने का आश्वासन दिया, लेकिन लोग डीएम, एसपी को बुलाने की जिद पर अड़े थे। सुबह 10 बजे एडीएम सोमदत्त मौर्य पहुंचे, पर उनकी भी बात पर लोग शांत नहीं हुए।

इसके बाद दिन में लगभग 11 बजे आक्रोशित लोगों के साथ माइनरटीज वेलफेयर सोसाइटी के नगर अध्यक्ष इसरार अहमद समेत अन्य पदाधिकारियों, सोनिया ने प्रतापगढ़-रायबरेली मार्ग पर जाम लगा दिया। जाम लगने के साथ ही लोग सड़क पर धरने पर बैठ गए। धरने में बड़ी संख्या में महिलाएं भी शामिल थीं। थोड़ी देर बाद सदर विधायक संगम लाल गुप्ता पहुंचे और लोगों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन जाम लगाने वाले डीएम, एसपी को बुलाने की जिद पर अड़े थे। इस दौरान एडीएम ने आश्वासन दिया कि सरकारी आवास, शस्त्र लाइसेंस दिया जाएगा। 20 लाख की आर्थिक सहायता के लिए शासन को पत्र भेजा जाएगा। शस्त्र लाइसेंस मिलने तक सुरक्षा दी जाएगी। कुछ देर तक विचार मंथन करने के बाद दोपहर लगभग साढ़े बारह बजे जाम समाप्त कर दिया गया। इसके बाद भाई हफीज अहमद के घर के बगल स्थित कब्रिस्तान में शव दफना दिया गया। हालांकि सुरक्षा को लेकर पुलिस मुस्तैद रही। सीओ सिटी रमेशचंद्र ने बताया कि आवास, शस्त्र लाइसेंस देने की मांग मान ली गई है। 20 लाख रुपये की सहायता के लिए डीएम की ओर से शासन को पत्र भेजा जाएगा।

उधर, मृतका के भाई हफीज अहमद की तहरीर पर पुलिस ने गुड्डू पासी पुत्र रमाशंकर, मगन पासी पुत्र सुखराम, रोहित गौतम पुत्र प्रदीप, नागेंद्र उर्फ पुट्टी पासी, पप्पू पासी के खिलाफ दुष्कर्म का प्रयास, हत्या का मुकदमा किया है। सीओ सिटी ने बताया कि गूड्डू पासी, रोहित गौतम को गिरफ्तार कर लिया गया है। तीन और लोग हिरासत में हैं।

TOPPOPULARRECENT