Tuesday , July 17 2018

रोहिंग्या मुसलमानों की जातीय सफाई जारी, म्यांमार वापसी असंभव : संयुक्त राष्ट्र

हिन्दी सियासत टीम, हैदराबाद : संयुक्त राष्ट्र मानव अधिकार राजदूत ने मंगलवार को कहा की म्यांमार रखाईन प्रांत में “आतंकवाद और मजबूर भुखमरी के अभियान” के साथ रोहिंग्या मुसलमानों की “जातीय सफाई” जारी है, छह महीने के बाद एक सैन्य कार्रवाई से मुस्लिम अल्पसंख्यकों के एक बड़े पैमाने पर पलायन हुआ है।

अगस्त में हिंसा शुरू होने के बाद से करीब 700,000 रोहंगिया बांग्लादेश की सीमा पर चले गए हैं, जिससे उनके साथ सैनिकों और भीड़ द्वारा हत्या, बलात्कार और आगजनी की लगातार गवाही दी गई है। “म्यांमार से रोहिंग्या की जातीय सफाई जारी है। मुझे नहीं लगता कि मैं क्या देखा और कॉक्स बाजार में सुना है लेकिन किसी भी अन्य निष्कर्ष से हमें उस तरफ आकर्षित कर सकते हैं और करते हैं, “मानव अधिकारों के लिए संयुक्त राष्ट्र के सहायक महासचिव एंड्रयू गिल्मर बांग्लादेश की खचा-खच भरे शरणार्थी शिविरों में पहुंचने और रोहिंग्या से बात करने के बाद कहा।

उन्होने अपने बयान में कहा कि यह “समझ से बाहर” है कि किसी भी रोहिंग्या म्यांमार के प्रतिज्ञाओं के बावजूद निकट भविष्य में म्यांमार लौटने के लिए कुछ शरणार्थियों को वापस लेने की शुरूआत करने में सक्षम हो जाएगा।

गिलमौर ने कहा “म्यांमार सरकार दुनिया को बता रही है कि वह रोहिंग्या को वापसी करने के लिए तैयार है, जबकि उसी समय उनकी ताकतें उन्हें बांग्लादेश के बार्डर में चला रही हैं,” । “वर्तमान परिस्थितियों में सुरक्षित, प्रतिष्ठित और स्थायी रिटर्न निश्चित रूप से असंभव है।”


म्यांमार की सेना ने जोर देकर कहा कि अगस्त में सीमावर्ती पुलिस वालों पर हमला करने वाले रोहिंगिया आतंकवादियों को जड़ से उखाड़ने के लिए कार्रवाई की जरूरत थी, जिसमें करीब एक दर्जन लोग मारे गए थे। डॉक्टर्स विन्ड बॉर्डर्स (एमएसएफ) ने अनुमान लगाया है म्यांमार की सेना के दखल से पहले महीने में कम से कम 6,700 रोहंग्या मारे गए थे।

सैकड़ों रोहिंगिया गांवों को जलाया गया था और हाल ही में सैटेलाइट इमेजरी से कम से कम 55 गांवों को पूरी तरह से बुलडोज़्ड किया गया है, इमारतों, कुओं और वनस्पतियों के सभी निशान हता दिये गए हैं।

TOPPOPULARRECENT