Thursday , April 26 2018

रोहिंग्या मुसलमानों पर हिंसा के लिए म्यांमार के शीर्ष कमांडर को अमेरिका ने जिम्मेदार माना, ब्लैकलिस्ट किया

नई दिल्ली। अमेरिका ने रोहिंग्या मुसलमानों पर हुए अत्याचार के लिए म्यांमार को दोषी ठहराया है। अमेरिका ने म्यांमार की कड़ी निंदा की है। ट्रम्प प्रशासन ने रोहिंग्या मुसलमानों पर अत्याचार व मानव अधिकारों के दुरूपयोग के लिए म्यांमार के एक शीर्ष जनरल को दोषी ठहराया है।

अमेरिका ने म्यांमार के इस शीर्ष जनरल को ब्लैकलिस्ट कर दिया है और इसकी कड़ी निंदा की है। रखाइन में रोहिंग्या मुसलमानों की सामूहिक कब्र मिली है।

अमेरिका ने म्यांमार के साथ घनिष्ठ संबंध बनाए रखने के बाद रोहिंग्या मामले पर कड़ा रूख अपना रखा है। म्यांमार के रखाइन प्रांत में रोहिंग्या पर हुए अत्याचारों को जातीय सफाई कहने के बाद अमेरिका की यह अब तक की सबसे बड़ी प्रतिक्रिया है।

दरअसल गुरूवार को अमेरिका ने दुनिया भर में 13 लोगों के खिलाफ दंड की घोषणा की। जिसमें जाम्बिया के पूर्व राष्ट्रपति, उज़्बेकिस्तान के पूर्व तानाशाह की बेटी और रूस के अभियोजक जनरल के बेटे शामिल थे। इसमें म्यांमार सेना के शीर्ष जनरल मोंग मोंग सोई को भी शामिल करना अमेरिका का सख्त कदम माना जा रहा है।

अमेरिका ने साल 2012 से अपनी विदेश नीति के तहत म्यांमार के खिलाफ आर्थिक व राजनैतिक प्रतिबंधों को ढीला कर दिया है। म्यांमार पर दशकों से सैन्य शासन होने के बाद नए लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए नोबेल शांति पुरस्कार विजेता आंग सान सू की के नेतृत्व में देश आगे बढ़ रहा था।

लेकिन अगस्त माह में रखाइन प्रांत में रोहिंग्या मुसलमानों पर हुए व्यापक अत्याचार के बाद अमेरिका सहित कई देशों के रिश्ते म्यांमार के साथ खटाई में पड़ गए है। लाखों की संख्या में लोगों को देश छोड़कर बांग्लादेश में रहना पड़ रहा है।

अमेरिका ने गुरूवार को रोहिंग्या पर हुई हिंसा के लिए म्यांमार सेना के तत्कालीन शीर्ष कमांडर मोंग मोंग सोई को दोषी माना है। अमेरिका ने कहा कि रोहिंग्या मुसलमानों पर हिंसा व व्यापक मानव अधिकारों के दुरुपयोग के लिए ये शीर्ष कमांडर जिम्मेदार है।

TOPPOPULARRECENT