Thursday , December 14 2017

लकड़ी की मस्जिद और चीनी मुसलमान

नायब सदर जम्हूरिया हिंदुस्तान हामिद अंसारी चार रोज़ा दौरे पर शाम चीन के क़दीम तहज़ीबी शहर झ़ियान पहूंचे। हामिद अंसारी कल जुमे को झ़ियान शहर की तारीख़ी ग्रांड मस्जिद का दौरा करेंगे। ये मस्जिद इस शहर की शिनाख़्त के तौर पर जानी जाती है

नायब सदर जम्हूरिया हिंदुस्तान हामिद अंसारी चार रोज़ा दौरे पर शाम चीन के क़दीम तहज़ीबी शहर झ़ियान पहूंचे। हामिद अंसारी कल जुमे को झ़ियान शहर की तारीख़ी ग्रांड मस्जिद का दौरा करेंगे। ये मस्जिद इस शहर की शिनाख़्त के तौर पर जानी जाती है।

1350 साल क़दीम ये मस्जिद लकड़ी की बनी हुई है और ये एक शाहकार कही जा सकती है। नायब सदर जम्हूरिया हिंद के साथ दौरे पर आए हुए सहाफ़ियों ने आज शाम ही इस मस्जिद का दौरा किया और उस को देख कर मबहूत रह गए। इस शहर में मुसलमानों की आबादी भी 20 फ़ीसद तक है और चीन के 10 टाप सनअती शहरों में इस का शुमार होता है। यहां का मंज़र ग़ालिब मुस्लिम आबादी वाले इलाक़ों की एक बेहतरीन तस्वीर पेश करता है, जहां मुसलमान रिवायती टोपी पहने हुए नमाज़ों की पाबंदी करते हैं।

यहां की मसाजिद में उनकी ख़ातिरख़वाह तादाद दिखाई देती है। इस शहर के हिंदुस्तान के साथ क़दीम रिवायती ताल्लुक़ात बुधमत की वज्ह से हैं। शहर के कुछ इलाक़ों में मुसलमान कसीर आबादी के साथ अपने वजूद का एहसास दिलाते हैं और शहर की एक तिजारती स्ट्रीट ऐसी है जहां हज़ारों मुसलमान कारोबार में मसरूफ़ दिखाई देते हैं, लेकिन वो अपनी इस्लामी शिनाख़्त को भी बरक़रार रखे हुए हैं।

इस तिजारती स्ट्रीट में नवादिरात की फ़रोख़त होती है और इस कारोबार में मुसलमान बड़ी हद तक ग़लबा रखते हैं। हालाँकि दूसरे मज़ाहिब के मानने वाले भी यहां हैं, लेकिन मुसलमान वाज़िह तौर पर अपने वजूद का पूरी इस्लामी रिवायात की पासदारी के साथ एहसास दिलाने में कामयाब नज़र आते हैं।

TOPPOPULARRECENT