Monday , May 21 2018

लगभग 7% वृद्धि के बावजूद, बेरोजगारी की समस्या अभी भी बनी हुई है!

नई दिल्ली: भारत में भारी संख्या में कामकाजी आबादी होती है जिसे आर्थिक रूप से जनसांख्यिकीय लाभांश के रूप में कहा जाता है, लेकिन वर्तमान संदर्भ में बेरोजगारी की दर चिंता का विषय है क्योंकि इससे जनसांख्यिकीय आपदा हो सकता है।

जबसे भाजपा सत्ता में आई है, इसलिए बेरोजगारी की दरों में थोड़ा बढ़ोतरी हुई है, जो इस तथ्य को लेकर है, जिसे विदेशी मीडिया ने भी समझ लिया है। फ्रांस की मीडिया बताती है कि 7% विकास दर के बावजूद, भारत में अभी भी बेरोजगारी की समस्याएं हैं।

हर साल लाखों युवक कार्यबल में शामिल होते हैं लेकिन उन्हें पर्याप्त आजीविका अवसर नहीं मिलते। यह अर्थव्यवस्था के औपचारिक और अनौपचारिक दोनों क्षेत्रों के मामले में सच है।

हिंदुस्तान टाइम्स में खबरों के मुताबिक, प्रधानमंत्री मोदी ने 2013 में आगरा में प्रचार करते हुए कहा कि “अगर भाजपा सत्ता में आती है, तो यह एक करोड़ नौकरियां मुहैया कराएगी, जो यूपीए (संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन) सरकार को लोकसभा चुनाव के आखिरी दिन पहले घोषणा करने के बावजूद नहीं कर सकती थी।”

लेकिन सत्ता में आने के साढ़े तीन साल बाद भी, बेरोजगारी की समस्या अभी भी बनी हुई है, वास्तव में यह और बढ़ गयी है। 2016-17 के आर्थिक सर्वेक्षण में कहा गया है कि “रोजगार वृद्धि सुस्त रही है।”

रोजगार से स्थायी रूप से रोजगार के लिए अनुबंध में बदलाव हुआ है जिससे नौकरी असुरक्षा की समस्या में और वृद्धि हुई है। इसके मजदूरी के स्तर, कर्मचारी की सामाजिक सुरक्षा और रोजगार की स्थिरता पर इसके प्रतिकूल प्रभाव पड़ते हैं।

TOPPOPULARRECENT