Monday , May 28 2018

‘लड़कियां अपने साथ चाकू रखें और जबदस्ती करने वाले का गुप्तांग काट दें’-आंध्रप्रदेश महिला आयोग अध्यक्ष का बयान

लड़कियां अपने साथ चाकू रखें और कोई जबरदस्ती करते तो उसका गुप्तांग काट दे । लड़कियों को ये सलाह दी है आंध्र प्रदेश महिला आयोग की अध्यक्ष नन्नापनेई राजकुमारी ने । लड़कियों के खिलाफ बढ़ते अपराधों पर अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए उन्होंने ये बयान दिया है ।

राजकुमारी ने ये बात 24 मई, 2017 को विशाखापत्तनम के किंग जॉर्ज हॉस्पिटल में बलात्कार पीड़ित दो आदिवासी लड़कियों से मिलने के बाद कही । 20 मई को ताजंगी गांव में आठ लोगों ने इन दोनों लड़कियों के साथ सामूहिक बलात्कार किया था।

खबर के अनुसार आरोपियों ने लड़कियों के साथ उनके दो मित्रों को बहुत बुरी तरह पीटा जिसके बाद स्कूल की इमारत में ले जाकर उनके साथ सामूहिक बलात्कार किया गया।

बलात्कार पीड़ितों से मिलने के बाद राजकुमारी नम आखों के साथ बाहर आईं। जिसके बाद मीडिया के सामने अपना गुस्सा जाहिर करते हुए उन्होंने कहा, ‘आरोपी जबरन लड़कियों को उठाकर ले गए और उनके दो दोस्तों को भी बहुत बुरी तरह से पीटा। ये बहुत बुरा है। उन्होंने जानवरों की तरह व्यवहार किया। मुझे लगता है ऐसे लोगों को केरल की घटना की तरह दंडित किया जाना चाहिए।’

बलात्कारियों से निपटने के लिए उन्होंने केरल की लॉ छात्रा का उदाहरण दिया, जहां छात्रा ने बलात्कार की कोशिश करने वाले स्वामी का गुप्तांग काट दिया था। महिला आयोग की चेयरपर्सन नन्नापनेई राजकुमारी राज्य मंत्री गन्ता श्रीनिवास राव व अन्य विधायकों के साथ पीड़िताओं से मिलने पहुंची थी।

जहां उन्होंने कहा, ‘मैं योजना आयोग की चेयरपर्सन होने के नाते कहती हूं कि जब भी लड़कियां घर से बाहर निकले उन्हें अपने साथ चाकू रखना चाहिए। जब कोई शख्स जानवरों की तरह उनसे जबरदस्ती करने की कोशिश करे तो तुंरत उनके गुप्तांग काट दें।’

राजकुमारी ने आगे कहा कि हम बलात्कारियों की चमड़ी उधेड़ देंगे। पुलिस को भी बलात्कारियों के पकड़े जाने पर उनके चेहरे नहीं छिपाने चाहिए बल्कि सड़को पर उनका जुलूस निकाला जाना चाहिए। जहां लोग बलात्कारियों को जूते-चप्पल और झाड़ू मारें। इसके बाद उन्हें थाने में बंद किया जाए। उन्होंने कहा कि निर्भया मामले के दोषियों की तरह यहां भी बलात्कारियों को फांसी की सजा दी जानी चाहिए या कम से कम उम्रकैद की सजा दी जाए।

TOPPOPULARRECENT