Monday , December 11 2017

लबनानी फ़ौज और नौजवान इस्लाम पसंद मुज़ाहिरीन के दरमयान तराबल्स में झड़प

लबनानी फ़ौज का हफ़्ते को देर गए तराबल्स में नौजवान इस्लाम पसंद मुज़ाहिरीन के एक गिरोह से फायरिंग का तबादला हुआ है जो दहश्तगर्दी के मुल्ज़िम की रिहाई का मुतालिबा कर रहे थे, इतवार की सुबह एक और वाक़िया में एक शख़्स उस वक़्त हलाक हो

लबनानी फ़ौज का हफ़्ते को देर गए तराबल्स में नौजवान इस्लाम पसंद मुज़ाहिरीन के एक गिरोह से फायरिंग का तबादला हुआ है जो दहश्तगर्दी के मुल्ज़िम की रिहाई का मुतालिबा कर रहे थे, इतवार की सुबह एक और वाक़िया में एक शख़्स उस वक़्त हलाक होगया जब तरीपोली के सुन्नी मुस्लिम अक्सरीयती ज़िला में इस्लाम पसंद शाम के सदर बशारुल असद की अलवाइत बिरादरी के अरकान के दरमियान तसादुम(टकराव) हुआ

,इस किस्म के वाक़ियात यहां मामूल हैं।इस्लाम पसंदों और फ़ौज के दरमियान फायरिंग का तबादला उस वक़्त हुआ जब ये नौजवान जो शाम के ख़िलाफ़ बग़ावत जारी रखे हुए हैं असद की हामी शामी सोशल नेशनलिस्ट पार्टी के दफ़ातिर की तरफ़ बढ़ने की कोशिश की। हलाकतों की कोई इत्तिलाआत नहीं मिलीं।इतवार को 100 नौजवान जिन में अक्सर इस्लाम पसंद थे तरीपोली में शुमाली और जुनूबी सड़कों को बंद कर दिया

और दहश्तगर्दी के एक अपने साथी मुल्ज़िम की रिहाई का मुतालिबा किया।मुज़ाहिरीन ने तरीपोली के जुनूबी दाख़िले रास्ते पर कैंप लगाया जो शुमाली लबनान का सब से बड़ा शहर है,सफेद झंडे लगाए गए जिन पर अल्लाह अकबर के नारे दर्ज थे,इस के साथ साथ शाम के आज़ादी के झंडे भी लगाए गए थे जो हमसाया मुल्क में इन्क़िलाब का इशारा हैं।

TOPPOPULARRECENT