Wednesday , December 13 2017

लव जेहाद पर आरएसएस के सख्त तब्सिरे

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ(आरएसएस)की दो मैग्ज़ीन ऑर्गनाइजर और पाञ्चजन्य ने लव जेहाद के मुतनाज़ा मुद्दे को अपनी कवर स्टोरी बनाया है|ऑर्गनाइजर में स्टोरी को लव जेहाद ''रिएलिटी ओर रेहटोरिक'' के नाम से छापा गया है| पाञ्चजन्य में इस स्टोरी

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ(आरएसएस)की दो मैग्ज़ीन ऑर्गनाइजर और पाञ्चजन्य ने लव जेहाद के मुतनाज़ा मुद्दे को अपनी कवर स्टोरी बनाया है|ऑर्गनाइजर में स्टोरी को लव जेहाद ”रिएलिटी ओर रेहटोरिक” के नाम से छापा गया है| पाञ्चजन्य में इस स्टोरी को प्यार ”अंधा या धंधा” का नाम दिया गया है| पत्रिका ने ‘लव एवर, लव जेहाद नेवर’ का नारा दिया है|वहीं यह सवाल भी पूछा है कि लव अंधा या धंधा|

ऑर्गनाइजर ने अपने कवर पेज पर रांची लव जेहाद की मुतास्सिरा तारा शाहदेव की फोटो छापी है| पाञ्चजन्य ने एक मर्द मॉडल को रिवायती अरबी काफिया पहने हुए दिखाया है|

लव जेहाद को लेकर आरएसएस ने अपने अखबार पांचजन्य और ऑर्गनाइजर में तीखे तब्सिरे किए हैं| आरएसएस की दोनों मैग्जीनो में दावा किया गया है जैश ए मोहम्मद और सिमी जैसे दहशतगर्द तंज़ीम के तहत हिंदू लड़कियों को लव जेहाद का शिकार बना रहे हैं| दोनों मैग्ज़ीनों (Magazines) में इस दावे को साबित करने के लिए कई सबूत भी दिए गए हैं| हालांकि समाजवादी पार्टी का इल्ज़ाम है कि आरएसएस सियासी मुफाद (फायदे) के लिए लव जेहाद का मुद्दा उठा रही है|

आरएसएस के अखबार ऑर्गनाइजर और पांचजन्य में लव जेहाद का मुद्दा उठाया गया है| पांचजन्य में दावा किया गया है कि लव जेहाद के पीछे जैश ए मोहम्मद और सिमी जैसे दहशतगर्द तंज़ीम सरगर्म हैं|

लव जेहाद के लिए मुस्लिम लड़कों को तैयार किया जा रहा है| उनका मकसद होता है कि वो हिंदू लड़कियों को अपने इश्क के झांसे में फांसकर शादी करें और फिर उनका मज़हब तब्दील करा दें| मज़हब की तब्दीली के बाद उनको जिहादी कामों और जिस्मफरोशी वगैरह में उतारने की भी बात सामने आती रही है|लड़कियों का काबिल ऐतराज़ वीडियो बनाया जाता है ताकि वो अपना मुंह ना खोल सकें|

पांचजन्य और ऑर्गनाइजर में लव जेहाद के कई मामलों का जिक्र भी किया गया है| लेकिन समाजवादी पार्टी लव जेहाद जैसे लफ्ज़ पर ही एतराज जता रही है|

आपको बता दें कि इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने लव जेहाद के मुद्दे पर मरकज़ी हुकूमत , यूपी हुकूमत और इलेक्शन कमीशन को नोटिस देते हुए सवाल पूछा है कि कि उन्होंने लव जेहाद को सियासी रंग देने वाले बीजेपी एमपी कलराज मिश्र और योगी आदित्यनाथ के खिलाफ क्या कार्रवाई की है ? हाईकोर्ट ने लव जेहाद के मुद्दे पर 15 सितंबर तक जवाब देने के लिए कहा है|

TOPPOPULARRECENT