Saturday , November 25 2017
Home / Bihar/Jharkhand / लालू के दामन में छिपा है राजबल्लभ, नीतीश की हैसियत नहीं है कि उसे पकड़ सके : ओझा

लालू के दामन में छिपा है राजबल्लभ, नीतीश की हैसियत नहीं है कि उसे पकड़ सके : ओझा

नवादा (नगर) : नाबालिग स्टूडेंट्स के साथ इस्मतरेज़ी  के आरोपित नवादा विधायक राजबल्लभ प्रसाद की गिरफ्तारी का दिखावा रियासत की सरकार कर रही है. लालू प्रसाद के दामन में राजबल्लभ प्रसाद छिपा है. नीतीश की हैसियत नहीं है कि उसे पकड़ सके. यह बातें भाजपा रियासी नायब सदर मिथिलेश ओझा ने भाजपा दफ्तर में प्रेस कॉन्फ्रेंस में कही. उन्होंने कहा कि वज़ीरे आला मुसलसल स्पीडी ट्रायल कर मुज़रिम पर कार्रवाई करने की बात कर रहे हैं. लेकिन अबतक मुज़रिम गिरफ्त में नहीं आया है. राज्य सरकार की तरफ से राजबल्लभ प्रसाद की गिरफ्तारी के लिए हाइ अलर्ट की एलान की गयी है.

लेकिन इसका असर नहीं दिख रहा है. बड़े भाई व छोटे भाई में मजबूत कौन है इसकी लड़ाई चल रही है. देखना है कि इसमें कौन झूकता है. आतंकवादी इसरत जहां को बिहार की बेटी कहने में जदयू नेताओं ने एक पल की देरी नहीं की थी. मुख्यमंत्री के गृह जिले की बेटी के साथ दुष्कर्म की घटना हुई है. लेकिन मुख्यमंत्री ने एक बार भी नहीं कहा कि हमारे जिले की बेटी के साथ दुष्कर्म करनेवाले को गिरफ्तार कर सजा दिलवायेंगे. प्रेसवार्ता में प्रदेश उपाध्यक्ष ने कहा कि नवादा जिले को पूरे देश दुनिया में बदनाम करने का काम विधायक राजबल्लभ प्रसाद द्वारा किया गया है. जब जनप्रतिनिधि ही हत्यारा या दुष्कर्मी बन जाये तो जिले की प्रतिष्ठा को कैसे बचाया जा सकता है.

उन्होंने पूरे मामले में सीबीआइ जांच करा कर दोषियों को तुरंत गिरफ्तार करने की मांग की. प्रेसवार्ता में कहा गया कि 25 फरवरी से शुरू होनेवाले विधानसभा सत्र में राज्य में हो रहे लूट, हत्या, अपहरण जैसे मुद्दे पर सरकार को घेरा जायेगा. जदयू विधायक के खिलाफ छेड़खानी, कांग्रेस विधायक के खिलाफ लड़की उठाने का मामला, तो राजद विधायक राजबल्लभ प्रसाद के खिलाफ दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है. यह इस सरकार के घृणित कार्यों को दर्शाता है.

मुख्यमंत्री जेएनयू में भारत विरोधी गतिविधियों में शामिल होनेवाले कन्हैया कुमार के पक्ष में खड़े होते हैं. आतंकवादी इशरत जहां को बिहार की बेटी बताते हैं. लेकिन नालंदा की बेटी के साथ दुष्कर्म होने के बाद भी खुल कर सामने नहीं आ रहे हैं. बड़े भाई, छोटे भाई के खेल में राज्य की जनता पिस रही है.

राजबल्लभ प्रसाद के इस कारनामे में केबल विधायक ही दोषी नहीं हैं बल्कि वह व्यक्ति उतना ही दोषी है जिसने टिकट देकर चुनाव लड़वाया. अपने कार्यकाल में मंत्री बनवाये. लेकिन हर मुद्दे पर अपना बयान देने वाले लालू प्रसाद इस मुद्दे पर चुप क्यों हैं. बीजेपी सड़क पर उतर चुकी है और सरकार के खिलाफ सड़क से लेकर सदन तक राज्य में विधि-व्यवस्था बनाने, महिलाओं की इज्जत अस्मत बचाने को लेकर संघर्ष करेगी. प्रेसवार्ता में हिसुआ विधायक अनिल सिंह, जिला संयोजक अरविंद शर्मा, शशि भूषण कुमार उर्फ बबलू, सतीश सिन्हा सहित कई अन्य भाजपा नेता मौजूद थे.

TOPPOPULARRECENT