Monday , December 18 2017

लालू व नीतीश ने इंतेहाई पसमानदा को धोखा दिया है : सुशील मोदी

पटना : भाजपा के सीनियर लीडर व साबिक़ वजीरे आला सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि इंतेहाई पसमानदा ज़ात के साथ धोखा करने वाले नीतीश कुमार और लालू प्रसाद के लिए बिहार का समाज हमेशा ‘फुटबॉल’ की तरह रहा है, जिसे इंतिखाबी फायदा के लिए कभी इधर तो कभी उधर ‘किक’ मारा गया है। नौ साल पहले जिस तरह राबड़ी देवी ने पसमानदा को ठगा था ठीक उसी तरह एक बार फिर नीतीश कुमार ने भी धोखा देने का काम किया है। नीतीष कुमार ने निषादों को आदिवासी में शामिल करने की सिफ़ारिश कर इन्हें अब तक मिल रहे रिज़र्वेशन के फायदे से भी महरूम करने की साजिश की है।

मिस्टर मोदी के बातों से एमपी अजय निषाद व एमएलए व पार्टी की क़ौमी नायब सदर रेणी देवी ने भी अपनी मंजूरी जतायी है। भाजपा लीडरों ने कहा कि इंतिख़ाब के ऐन मौके पर निषादों पर लाठी बरसाने और उनके हुकुक को कुचलने वाले नीतीश कुमार ने अपनी काबीना की आखरी बैठक में ठीक उसी तरह उन्हें अजजा में शामिल करने की सिफ़ारिश का फैसला लिया है जिस तरह राबड़ी देवी ने अपनी काबीना की आखरी बैठक में 2 नवम्बर, 2004 को नोनिया, बिंद, मल्लाह, कमार (लोहार और कर्मकार), बढ़ई, तुरहा, राजभर, चन्द्रवंषी (कहार, कमकर) को एसटी जाति में नोटिफिकेशन करने की सिफ़ारिश का फैसला लिया था।

लीडरों ने कहा कि दस साल तक मरकज़ में कांग्रेस की हुकूमत रही, नीतीश कुमार वजीरे आला रहे मगर इन तमाम जातियों को एसटी में शामिल कराने की कोई शुरुवात नहीं हुई। ताज्जुब तो यह है कि तीन महीनेे पहले 8 जून को आधी-अधूरी रिपोर्ट के साथ जिन मल्लाहों को नीतीश कुमार दलित का दर्जा देने की सिफ़ारिश करते हैं उन्हीं को अब आदिवासी बनाने की तजवीज कर रहे हैं।

 

 

TOPPOPULARRECENT