Monday , December 18 2017

लाहौर हाईकोर्ट ने लखवी की दरख़ास्त मुस्तरद करदी

पाकिस्तान की एक अदालत ने लश्करे तैयबा के ऑप्रेशन कमांडर और 2008 के मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड ज़की उर्रहमान लखवी की दाख़िल कर्दा दरख़ास्त पर अपना फ़ैसला पहले पहल महफ़ूज़ रखा था जिस ने सेक्युरिटी ऐक्ट के तहत उस की गिरफ़्तारी को चैलेंज क

पाकिस्तान की एक अदालत ने लश्करे तैयबा के ऑप्रेशन कमांडर और 2008 के मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड ज़की उर्रहमान लखवी की दाख़िल कर्दा दरख़ास्त पर अपना फ़ैसला पहले पहल महफ़ूज़ रखा था जिस ने सेक्युरिटी ऐक्ट के तहत उस की गिरफ़्तारी को चैलेंज किया है।

मुक़द्दमा की समाअत के बाद अदालत के एक ओहदेदार ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि लाहौर हाइकोर्ट जज महमूद मक़बूल बाजवा ने लखवी के वकील राजा रिज़वान अब्बासी की जिरह की समाअत के बाद अपने फ़ैसला को महफ़ूज़ रखा है। ओहदेदार के मुताबिक़ फ़ैसला किसी भी वक़्त सुनाया जा सकता है।

लाहौर हाईकोर्ट में कल लखवी ने अपनी गिरफ़्तारी को चैलेंज किया था। 14 मार्च को पंजाब हुकूमत ने मेंटेंन्स ऑफ़ पब्लिक आर्डर (MPO) के तहत लखवी को मज़ीद दस दिनों के लिए हिरासत में लिया था क़ब्ल इस के कि उसे रावलपिंडी की अडियाला जेल से लाहौर हाइकोर्ट की हिदायत के मुताबिक़ रिहा किया जा सके।

13 मार्च को लाहौर हाइकोर्ट के जज नूरुल हक़ क़ुरैशी ने वफ़ाक़ी हुकूमत के इस अहकाम को मुअत्तल कर दिया था जिस में 55साला लखवी को गिरफ़्तार करने का हुक्म दिया गया था और मिस्टर क़ुरैशी ने फ़ौरी उस की रिहाई का हुक्म जारी किया।

ताज़ा तरीन इत्तिलाआत के मुताबिक़ लाहौर हाइकोर्ट ने लखवी की दरख़ास्त मुस्तरद करदी है और इस तरह अब उसे आइन्दा माह तक जेल की सलाखों के पीछे ही रहना होगा।

TOPPOPULARRECENT