मोबाइल, लैपटॉप और ईवीएस बैटरी पर सफलता के लिए मिला नोबेल

मोबाइल, लैपटॉप और ईवीएस बैटरी पर सफलता के लिए मिला नोबेल

स्टॉकहोम: तीन शोधकर्ताओं ने बुधवार को लिथियम आयन बैटरी के विकास के लिए नोबेल रसायन विज्ञान पुरस्कार जीता, जिससे स्मार्टफोन और जीवाश्म ईंधन मुक्त समाज का मार्ग प्रशस्त हुआ। संयुक्त राज्य अमेरिका के 97 वर्षीय जॉन गुडेनफ सबसे पुराने व्यक्ति को नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा – ब्रिटेन के स्टेनली व्हिटिंगम, और जापान की अकीरा योशिनो, रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेस को नौ मिलियन स्वीडिश क्रोनर (लगभग 914,000 डॉलर या 833,000 यूरो) पुरस्कार बांटेंगे।

निर्णायक मंडल ने कहा “यह हल्के, रिचार्जेबल और शक्तिशाली बैटरी का उपयोग अब मोबाइल फोन से लेकर लैपटॉप और इलेक्ट्रिक वाहनों तक सब कुछ में किया जाता है … सौर और पवन ऊर्जा से महत्वपूर्ण मात्रा में ऊर्जा का भंडारण भी कर सकता है, जिससे एक जीवाश्म ईंधन मुक्त समाज संभव है” ‘इन हल्की, पुन: रिचार्ज हो सकने वाली और शक्तिशाली बैटरियों का इस्तेमाल अब मोबाइल फोन से लेकर लैपटॉप और इलेक्ट्रॉनिक वाहनों आदि सभी में होता है। इनमें सौर और पवन ऊर्जा की अच्छी खासी मात्रा संग्रहीत की जा सकती है जिससे पेट्रोल-डीजल जैसे जीवश्म ईंधन से मुक्त समाज की ओर बढ़ना संभव होगा।’

जापानी वैज्ञानिक अकीरा योशिनो ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि जिज्ञासा ही उनके लिए मुख्य प्रेरणास्रोत बनी. निर्णायक मंडल ने कहा, ‘‘इन हल्की, पुन: रिचार्ज हो सकने वाली और शक्तिशाली बैटरियों का इस्तेमाल अब मोबाइल फोन से लेकर लैपटॉप और इलेक्ट्रॉनिक वाहनों आदि सभी में होता है. इनमें सौर और पवन ऊर्जा की अच्छी खासी मात्रा संग्रहित की जा सकती है जिससे पेट्रोल-डीजल जैसे जीवश्म ईंधन से मुक्त समाज की ओर बढ़ना संभव होगा.’

Top Stories