Sunday , December 17 2017

लेक व्यू गेस्ट हाउज़ में आंध्र के चीफ मिनिस्टर का कैंप ऑफ़िस

अलाहिदा रियासत तेलंगाना की तशकील के एलान और फिर तेलंगाना और सीमा आंध्र के लिए असेंबली इंतिख़ाबात के साथ ही सियासी और अवामी हल्क़ों में ये चर्चे शुरू हो गई हैं कि हैदराबाद चूँकि दोनों रियासतों का मुशतर्का दारुल हकूमत होगा इस में

अलाहिदा रियासत तेलंगाना की तशकील के एलान और फिर तेलंगाना और सीमा आंध्र के लिए असेंबली इंतिख़ाबात के साथ ही सियासी और अवामी हल्क़ों में ये चर्चे शुरू हो गई हैं कि हैदराबाद चूँकि दोनों रियासतों का मुशतर्का दारुल हकूमत होगा इस में किस का असर होगा? तेलंगाना वालों का दबदबा होगा या फिर आंध्र वालों का असर और रसूख़ काम करेगा। इसी तरह सीमा आंध्र की असेंबली के बारे में भी इसी तरह के ख़्यालात पाए जाते थे।

एक और सवाल ये भी उठाया जा रहा था कि सीमा। आंध्र के नव मुंतख़ब चीफ मिनिस्टर का कैंप ऑफ़िस कहाँ होगा? इस बारे में गवर्नर ई एस एल नरसिम्हन ने आला ओहदेदारों के साथ एक इजलास में फैसला कर दिया है जिस के मुताबिक़ सोमाजी गुड़ा में वाक़े राज भवन के बिलकुल करीब सरसब्ज़ और शादाब वसीओ अरीज़ लेक व्यू गेस्ट हाउज़ रियासत आंध्र प्रदेश के चीफ मिनिस्टर का कैंप ऑफ़िस होगा।

ज़राए का कहना है कि जिस तरह हैदराबाद 10 साल के लिए दोनों रियासतों का मुशतर्का दारुल हकूमत होगा उसी तरह लेक व्यू गेस्ट हाउज़ में आंध्र प्रदेश के चीफ मिनिस्टर का कैंप ऑफ़िस भी दस साल तक ही काम करेगा।

जहां तक बेगम पेट में मौजूदा चीफ मिनिस्टर की क़ियामगाह और कैंप ऑफ़िस का सवाल है। ये इमारत तेलंगाना के नए चीफ मिनिस्टर को अलॉट की जाएगी। इस तरह जुबली हाल की ख़ूबसूरत इमारत में आंध्र प्रदेश क़ानूनसाज़ कौंसल का पहला इजलास मुनाक़िद करने की भी तजवीज़ पेश की गई है।

हाल ही में प्रिंसिपिल सेक्रेट्री महकमा इमारात और शवारा ने गवर्नर को इमारतों के अलाटमैंट से मुताल्लिक़ तफ़सीलात से वाक़िफ़ करवाया। उन्हों ने ये भी बताया कि हैदराबाद में 179 मह्कमाजात के दफ़ातिर हैं।

सेक्रेट्रीएट जो कभी सैफाबाद पैलेस कहलाता था। उन का कहना है कि लेक व्यू गेस्ट हाउज़ और जुबली हाल साबिक़ रियासत हैदराबाद दक्कन के तारीख़ी आसार हैं। उन का सवाल है कि आख़िर आंध्र प्रदेश को 10 साल के लिए भी ये तारीख़ी इमारतें क्योंकर दी जा सकती हैं। अगर आंध्र वाले इन इमारतों में तब्दीलियां लाएंगे तो इस का ज़िम्मेदार कौन होगा? या फिर वो इन इमारतों को तबाह कर देंगे तो उस की ज़िम्मेदारी कौन लेगा?

TOPPOPULARRECENT