Tuesday , December 12 2017

लेबनान में सीरियाई शरणार्थियों के लिए न रहने की जगह न दफ़नाने की

जैसे अपने तीन बच्चों की मौत का गम लेबनान में सीरियाई शरणार्थी अहमद अल मुस्तफा के लिए काफी  नहीं था कि उन्हें बच्चों को दफनाने के लिए कब्र की जगह खोजने यहाँ वहाँ मारे मारे फिरना पड़ा।
Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये
इस पिता को तीन वर्षों में अपने तीन बच्चों को मौत की नींद सोते देखना पड़ा। निर्माण क्षेत्र के इस 29 वर्षीय मजदूर पिता का संबंध सीरियाई शहर हलब से है,  हालांकि सीरियाई गृहयुद्ध से भाग कर उसने लेबनान के बक़ा क्षेत्र में शरण ली। ” तीन वर्षों में तीन बच्चों का पिता बना, हर बार वह मर गया। ”

” समस्या यह है कि उन्हें दफन कैसे किया जाए ” मुस्तफा की आवाज यह लफ्ज़ अदा करते हुए उसकी आंखें आंसुओं में डूब सी गई।

सीरिया में पिछले पांच साल से जारी गृहयुद्ध की वजह से एक लाख से अधिक सीरियाई लोगों ने लेबनान का रुख किया। संयुक्त राष्ट्र के अनुसार इनमें से एक तिहाई सीरियाई सीमा के करीब स्थित लेबनानी वादी बका  में शरणार्थी आये।

हजारों प्रवासियों के आगमन की वजह से एक तरफ तो इन लोगों की आवास की समस्या गंभीर हो गया और दूसरी ओर स्थानीय कब्रिस्तान भर जाने की वजह से मरने वाले व्यक्तियों के लिए कब्र की जमीन तक का मिलना मुहाल होता चला गया। लेबनान में एक लाख से अधिक सीरियाई निवासी शरण लिए हुए हैं, पांच साल पहले सीरिया से पलायन करने वाले मुस्तफा और उनकी पत्नी ने तीन महीने, पांच दिन और दो घंटों की उम्र के बच्चों की मौत देखी।

समाचार एजेंसी एएफपी के अनुसार जब इस जोड़ी के पहले बच्चे की मौत हुई, तो मुस्तफा ने पास के शहर में अपने एक जानने वाले से संपर्क किया, जिसने इस बच्चे की कब्र के लिए अपने परिवार को जाना संस्कार में एक छोटा टुकड़ा मुस्तफा के बच्चे को दे दिया। फिर जब दूसरा बच्चा मर गया, ” तो हमें मजबूर किया गया कि पीआईएम पुणे बच्चे की कब्र खोद कर अन्य को भी इसी जगह दफन करें। ”

मुस्तफा ने बताया कि तीसरे बच्चे को स्थानीय धार्मिक नेताओं के सहयोग से एक करीबी जिले में संस्कार की जगह उपलब्ध हो गई।” हम सरकार और धार्मिक नेताओं से बस इतना अनुरोध करते हैं कि हमें कोई ऐसी जगह दे दी जाए, जहां खेती नहीं होती है और अगर कोई प्रवासी मर जाता है, तो उसे इस स्थान पर दफन किया जा सके। ”

TOPPOPULARRECENT