लोकतंत्र के लिए विचार-विमर्श, बातचीत, विचारों का संगम महत्वपूर्ण है: उपराष्ट्रपति

लोकतंत्र के लिए विचार-विमर्श, बातचीत, विचारों का संगम महत्वपूर्ण है: उपराष्ट्रपति
Click for full image

उपराष्‍ट्रपति एम. वेंकैया नायडु ने कहा कि देश के पहले गृहमंत्री सरदार पटेल भारतीय संस्‍कृति के प्रतीक थे। वे आज यहां उपराष्‍ट्रपति सचिवालय में नवर्निमित सरदार पटेल सम्‍मेलन सभागार का उद्घाटन करने के बाद लोगों को संबोधित कर रहे थे।

इस सम्‍मेलन सभागार में उपराष्‍ट्रपति महत्‍वपूर्ण विदेशी प्रतिनिधिमंडलों के साथ बातचीत करने के अलावा विभिन्न प्रतिनिधियों से मुलाकात किया करेंगे। यहां पर सांस्‍कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाएगा।

उपराष्‍ट्रपति ने कहा कि सरदार पटेल ने 500 से अधिक राजे-रजवाड़ों को एकजुट कर  देश में एकता कायम की थी। उन्‍होंने कहा कि वे उनके आदर्श हैं तथा आईएएस एवं आईपीएस जैसी सेवाएं शुरू करने में उनकी महत्‍वपूर्ण भूमिका थी।

उप राष्‍ट्रपति ने कहा कि लोकतंत्र के लिए संसद के अंदर और बाहर विचार-विमर्श, बातचीत, विचारों का संगम महत्वपूर्ण है।

इस असवर पर उपराष्‍ट्रप‍ति ने सभागार का निर्माण रिकॉर्ड तीन महीने के समय में पूरा करने के लिए शहरी विकास मंत्रालय, केंद्रीय लोक निर्माण विभाग, शिरके ग्रुप और एनडीएमसी की सराहना की।

Top Stories