Thursday , November 23 2017
Home / Delhi / Mumbai / लोकसभा में तृणमूल कांग्रेस स्टिंग ऑपरेशन की वजह से परेशानियों का शिकार

लोकसभा में तृणमूल कांग्रेस स्टिंग ऑपरेशन की वजह से परेशानियों का शिकार

जांच करवाने सरकार का प्रस्ताव, कांग्रेस, वाम और भाजपा टीएमसी के खिलाफ एकजुट, तृणमूल हौसला कमज़ोर नहीं: ममता बनर्जी

नई दिल्ली:  तृणमूल कांग्रेस ने आज लोकसभा में खुद को कड़ी मुश्किलों का सामना करते हुए पाया कि एक स्टिंग ऑपरेशन की वजह से था। सरकार का कहना था कि ” सत्य प्रबल रहना चाहिए ” उसने कथित रिश्वतखोरी के आरोपों की जो तृणमूल कांग्रेस के कुछ सांसदों के खिलाफ लगाए गए हैं, जांच पर जोर दिया। सदन में भाजपा, कांग्रेस और वामपंथी दलों ने संयुक्त रूप से तृणमूल कांग्रेस को इस मुद्दे पर आलोचना। हालांकि तृणमूल कांग्रेस का दावा है कि ये आरोप एक राजनीतिक साजिश है जो पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के मद्देनजर की गई है। तृणमूल कांग्रेस और वामपंथी पार्टी सदस्यों के बीच गर्मागर्म मौख़ा पुनरावृत्ति देखी गई जबकि सीपीआई (एम) के मोहम्मद सलीम ने शून्यकाल के दौरान यह मुद्दा उठाया जिसके बाद भाजपा के एसएस अहलूवालिया और कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी ने भी तृणमूल कांग्रेस की निंदा करते हुए जांच की मांग की।

स्टिंग ऑपरेशन की जांच में कई तृणमूल कांग्रेस नेताओं को एक फर्जी घरेलू कंपनी को मदद देने के लिए राशि प्राप्त करते हुए दिखाया गया है। तीनों दलों ने सर्वसम्मति से मांग किया कि उनके खिलाफ कार्य‌वाई की जाए। संसद को इसी प्रकार के आरोपों पर कुछ साल पहले 11 सांसदों को निलंबित किया गया था।सदस्यों का जवाब देते हुए केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू ने कहा कि संसद की प्रतिष्ठा दांव पर है, हमें सच्चाई का सबूत देना होगा। केवल यह कहना कि यह एक साजिश है अपर्याप्त है, उससे जनता संतुष्ट नहीं होंगे। या तो सरकार को जांच करवानी चाहिए या स्पीकर जांच के आदेश दे सकते हैं।

सीपीआई (एम) के मोहम्मद सलीम ने कहा कि हम शर्मिंदा हैं कि जनता के साथ बैठे हैं, हमें इन सब पर अपनी शर्मिंदगी ज़ाहिर करनी होगी। संसद की गरिमा उसके चरित्र पर निर्भर करता है। उन्होंने मांग किया कि एक समिति का गठन करना चाहिए जो इन आरोपों की जांच करे, तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों ज्यादातर समय चुप बैठे रहे। सलीम के बाद अहलूवालिया और अधीर रंजन चौधरी ने भी उन्हें आलोचना कि लेकिन शुरुआत तब हुई, जबकि तृणमूल कांग्रेस के नेता सोगट राय जो उन सांसदों में शामिल हैं, जिन्हें स्टिंग ऑपरेशन में दिखाया गया है, अपनी पार्टी की रक्षा के लिए उठ खड़े हुए। तृणमूल कांग्रेस सदस्यों और कुछ कांग्रेस और वामपंथी सदस्यों को एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप करते हुए देखा गया जिसे अध्यक्ष ने कार्यवाही से हटाने का निर्देश दिया।

अहलूवालिया ने कहा कि यह संसद और लोकतांत्रिक व्यवस्था के लिए कष्टप्रद स्थिति है, उसे नैतिकता समिति के सुपुर्द कर देना चाहिए। उन्होंने याद दिलाया कि कई सदस्यों को सदन से बाहर कर दिया गया था जबकि वे इसी तरह स्टिंग ऑपरेशंस के आरोप में 2005-06 ई। के दौरान फंस गए थे। उन्होंने कहा कि यह सदन की गरिमा का मामला है। तृणमूल कांग्रेस के सांसदों पकड़े गए हैं, इसकी जांच होनी चाहिए। अधीर रंजन चौधरी ने जांच की मांग की। सोगट राय ने व्यक्त आश्चर्य किया कि अध्यक्ष सुमित्रा महाजन इस मुद्दे को उठाने की सदस्यों को कैसे अनुमति दे रही हैं।

इसका फैसला होना चाहिए। उन्होंने उत्सुकता से कहा कि मुझे यह दिन देखने के लिए जीवित रहना था। स्टिंग ऑपरेशन एक राजनीतिक षड्यंत्र का हिस्सा है जो पश्चिम बंगाल चुनाव से पहले  कांग्रेस और भाजपा ने रची है। उन्होंने विश्वास प्रकट किया कि तीनों राजनीतिक दलों को विफलता होगी। आलोचना का हवाला देते हुए सोगट राय ने कहा कि इस मुद्दे पर सदन में आपत्ति किए गए हैं। वेंकैया नायडू ने कहा कि सदस्यों को जनता में यह धारणा प्रकट नहीं करना चाहिए कि हम किसी न किसी बहाने की तलाश में हैं या कुछ भी छिपा रखना चाहते हैं। संभव है कि सच क्या है और झूठ क्या है स्पष्ट नहीं है।

लेकिन कुछ न कुछ तो हुआ है और संसद की प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुआ है। उन्होंने कहा कि शाकी सदस्यों चैनलस‌ के खिलाफ कार्रवाई कर सकते हैं, अगर उनका यह एहसास है कि यह स्टिंग ऑपरेशन ” झूठा ” साबित होगा। नायडू ने जोर तरीके अध्यक्ष से कहा कि वह इस बात को नोट लें और दोहराया  कि सरकार जांच के आदेश दे सकती है या फिर खुद अध्यक्ष इस मामले की समीक्षा कर सकते हैं। राज्यसभा में वामपंथी दलों और भाजपा ने बार बार स्टिंग ऑपरेशन का मुद्दा उठाने की कोशिश की लेकिन उपाध्यक्ष पी जे कोरियाई ने अनुमति नहीं दी। सीपीआई (एम) तपनग कुमार सेन चाहते थे कि सदन की एक समिति इस मुद्दे की जांच करे लेकिन कोरियाई ने उनसे कहा कि वह आरोपों लगाने से पहले उसे नोटिस दें।

भाजपा सदस्य भी मुद्दा उठाने में शामिल हो गए। उन्होंने कहा कि यह ठीक है कि वे किसी उचित नोटिस के बिना उपाध्यक्ष आरोप लगाने की अनुमति नहीं देंगे। उपाध्यक्ष ने कहा कि वह चाहते हैं कि सदस्यों के आरोपों को रिकॉर्ड से हटा दिए जाएं। अगर यह गंभीर समस्या है तो नोटिस क्यों नहीं देते। जब वह सदन में अनुशासन बहाल करने की कोशिश कर रहे थे तो भाजपा के सदस्य उठ खड़े हो गए तो यह समस्या लें। कोरियाई भी अपनी सीट से उठ खड़े हुए और राज्यमंत्री संसदीय मामलों मुख्तार अब्बास नकवी से कहा कि वह अपनी पार्टी के सदस्यों को काबू में रखें।

उन्होंने कहा कि अध्यक्ष इस तरह के रवैये से भयभीत नहीं हो सकते। सत्ताधारी सदस्यों को इस तरह का व्यवहार नहीं करना चाहिए। सत्ताधारी पार्टी को अध्यक्ष से सहयोग करना चाहिए। कोरियाई ने कहा कि वह यह नहीं कह रहे हैं कि इस मुद्दे पर चर्चा नहीं हो सकता, इस पर विचार करने के लिए नोटिस की इच्छा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि चर्चा के लिए वह समय देने पर विचार करेंगे। करसीाँग से मिली सूचना के मुताबिक पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आज कहा कि तृणमूल कांग्रेस हतोत्साहित नहीं की जा सकती चाहे उसके खिलाफ विधानसभा चुनाव में जीत हासिल करने के लिए साजिश ही क्यों न रची गई हो।

उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि तृणमूल कांग्रेस ही फिर विधानसभा चुनाव में जीत हासिल करेगी और फिर सत्ता आएगी। वह दार्जिलिंग हिल्स में एक चुनावी सभा को संबोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि मौका मिलने पर हम मुंहतोड़ जवाब देंगे। हम ईमानदारी से काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सीपीआई (एम), कांग्रेस और भाजपा तृणमूल कांग्रेस के खिलाफ एकजुट हो गए हैं। हमारी पार्टी का एक सिद्धांत है जो राजनीतिक पार्टियां कोई सिद्धांत नहीं रखतें वही ऐसा करती हैं। उन्होंने कहा कि सीपीआई (एम) ने पहले अलगाववादी संगठन गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के चुनाव के दौरान समर्थन किया था।

उन्होंने मोर्चे पर इल्ज़ाम किया कि वह पहाड़ी जनता को धमकी दे रहा है और उन पर दबाव डाल रहा है। उन्होंने युवा पीढ़ी से अपील की कि वे मोर्चे के खिलाफ खड़े हो जाएं। दार्जिलिंग हिल्स के लगातार दौरों का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि पिछले 4 साल में उन्होंने इस क्षेत्र की कई बार दौरा किया है। वह भूस्खलन की घटनाओं, भूकंप की घटनाओं के अवसर पर यहां के दौरे पर आई हैं ताकि पहाड़ी क्षेत्र का विकास कर सकें।

TOPPOPULARRECENT