लोक गठबंधन पार्टी ने मुजफ्फरपुर आश्रय घर में हुए बलात्कार के मामले में बिहार सरकार की आलोचना की 

लोक गठबंधन पार्टी ने मुजफ्फरपुर आश्रय घर में हुए बलात्कार के मामले में बिहार सरकार की आलोचना की 

नई दिल्ली: लोक गठबंधन पार्टी (एलजीपी) ने मुजफ्फरपुर आश्रय घर बलात्कार के मामलों में मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर की सहायता करने के मामले में बिहार सरकार की आलोचना की।

एलजीपी ने कहा कि सीबीआई की हालिया स्टेटस रिपोर्ट जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने नाराज़गी व्यक्त किया है, नीतीश कुमार सरकार पर एक प्रकार से प्रत्यक्ष आरोप है जो राज्य में सुशासन के बारे में लंबा दावा कर रहा है।

एलजीपी के प्रवक्ता ने सोमवार को कहा कि सर्वोच्च न्यायालय की इस मामले में की गई टिप्पणी गंभीर चिंता का विषय है और अदालत ने उचित जांच के लिए राज्य के बाहर आरोपी ठाकुर के हस्तांतरण का सही आदेश दिया ।

प्रवक्ता ने कहा कि मौजूदा कानून व्यवस्था के हालात के चलते जेडी (यू) -बीजेपी सरकार अब लोगों को गुमराह नहीं कर सकती है और यह निश्चित रूप से 201 9 के लोकसभा चुनावों में प्रतिबिंबित होगी। प्रवक्ता ने कहा कि बिहार की जनता पहले से ही सहयोगी एनडीए सरकार के साथ असहज महसूस कर रहे हैं क्योंकि पिछले कुछ वर्षों में सुशासन, ईमानदारी और पारदर्शिता की राज्य में एक बड़ी कमी  रही है।

प्रवक्ता ने कहा कि मुजफ्फरपुर आश्रय घर बलात्कार के मामलों में एक पूर्व मंत्री मंजू वर्मा के फरार पति चंद्रशेखर वर्मा सहित शक्तिशाली लोगों की भागीदारी के साथ राज्य में महिलाओं की सुरक्षा में कमी के बारे में साफ़ संकेत दिया है।

प्रवक्ता ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय ने सीबीआई द्वारा ठाकुर के खिलाफ लगाए गए आरोपों की गंभीर प्रकृति को ध्यान में रखते हुए, भागलपुर में केंद्रीय जेल में या बिहार के किसी अन्य जेल में उनकी हिरासत जारी रखने को उचित नहीं पाया है। इस मुद्दे पर सर्वोचय न्यायालय ने नोटिस जारी करते हुए कहा  कि उनकी हिरासत को किसी अन्य राज्य में क्यों न स्थानांतरित किया जाए । इस मामले को कल सुनवाई के लिए निर्धारित किया गया है।

प्रवक्ता ने कहा कि सीबीआई की रिपोर्ट के अनुसार ठाकुर से एक मोबाइल फोन बरामद किया गया था और उसने जेल के अंदर से 40 लोगों के साथ बात किया था। साथ ही, जब दो सीबीआई अधिकारी जेल में उनसे सवाल करने गए, तो ठाकुर ने उन्हें जेल में आने देने के लिए जेल अधीक्षक को लताड़ पिलाई ।

Top Stories