Monday , December 11 2017

लोक पाल नहीं जल्लाद ज़रूरी , अन्ना पर पार्लीमैंट की तौहीन का बाल ठाकरे का इल्ज़ाम

मुंबई, १६ दिसम्बर: (पी टी आई) शिवसेना सरबराह बाल ठाकरे ने टीम अन्ना को शदीद तन्क़ीद का निशाना बनाते हुए कहा कि पार्लीमैंट पर लोक पाल बिल मंज़ूर करने गै़रज़रूरी दबाव् डाला जा रहा है जबकि मुल्क को लोक पाल से ज़्यादा एक जल्लाद की ज़रूरत है

मुंबई, १६ दिसम्बर: (पी टी आई) शिवसेना सरबराह बाल ठाकरे ने टीम अन्ना को शदीद तन्क़ीद का निशाना बनाते हुए कहा कि पार्लीमैंट पर लोक पाल बिल मंज़ूर करने गै़रज़रूरी दबाव् डाला जा रहा है जबकि मुल्क को लोक पाल से ज़्यादा एक जल्लाद की ज़रूरत है जो पार्लीमैंट पर हमला करने वाले दहश्तगर्द अफ़ज़ल गुरु को सज़ाए मौत पर अमल आवरी करसके यानी उसे फांसी पर लटका सके।

अपनी पार्टी के तर्जुमान अख़बार सामना के अदारीए में तहरीर करते हुए बाल ठाकरे ने कहा कि पार्लीमैंट के वक़ार को आख़िर कब तक दाँव पर लगाया जाएगा? उन्हों ने कहा कि अन्ना हज़ारे के साथी पार्लीमैंट की एहमीयत कम करने की कोशिश कररहे हैं और इस मक़सद से पार्लीमैंट पर दबाव् डाल रहे हीका लोक पाल बिल पार्लीमैंट के जारीया इजलास में ही मंज़ूर किया जाये।

बाल ठाकरे ने कहा कि पार्लीमैंट एक काबिल-ए-एहतिराम इदारा है और इस का हर एक को एहतिराम करना चाहिये। उन्हों ने कहा कि अवाम में ये तास्सुर पैदा करने की ज़रूरत नहीं कि लोक पाल बल की मंज़ूरी से मुल्क में राम राज के क़ियाम की राह हमवार होगी। उन्हों ने कहा कि इस के बरख़िलाफ़ मुल्क में ऐसी सूरत-ए-हाल पैदा हो जाएगी कि हिंदूस्तान में भी एक क़ज़ाफ़ी जैसा शख़्सियत पैदा हो सकता है।

शिवसेना के मौक़िफ़ का इआदा करते हुए कि पार्लीमैंट आला तरीन इदारा है और इस के मौक़िफ़ के सिलसिला में किसी क़ीमत पर मुफ़ाहमत नहीं की जानी चाहीये। शिवसेना के कारगुज़ार सदर उद्धव ठाकरे ने कहा कि मलिक का कोई भी इदारा दस्तूर से बालातर नहीं है।

TOPPOPULARRECENT