Wednesday , December 13 2017

लड़की की इस्मत रेज़ि का मुल्ज़िम तेज़ गाम अदालत से बरी

नई दिल्ली 21 जनवरी (पी टी आई ) एक 38 साला शख़्स जिस पर एक लड़की के अग़वा और इस्मत रेज़ि का मुल्ज़िम था ,एक तेज़ गाम अदालत से बरी कर दिया गया । मुबय्यना तौर पर मुतास्सिरा ने गवाही दी थी कि इस ने अपने ख़ानदान के दबाव के तहत शिकायत दर्ज करवाई थी ।

नई दिल्ली 21 जनवरी (पी टी आई ) एक 38 साला शख़्स जिस पर एक लड़की के अग़वा और इस्मत रेज़ि का मुल्ज़िम था ,एक तेज़ गाम अदालत से बरी कर दिया गया । मुबय्यना तौर पर मुतास्सिरा ने गवाही दी थी कि इस ने अपने ख़ानदान के दबाव के तहत शिकायत दर्ज करवाई थी ।

एक ख़ुसूसी तेज़ गाम अदालत ने जो खासतौर पर जिन्सी जराइम के मुक़द्दमात की समाअत केलिए क़ायम की गई है फ़ैसला सुनाते हुए फरीदाबाद के साकन शकील अहमद को बरी कर दिया । ऐडीशनल सुशन जज योगेश खन्ना ने कहा कि मुबय्यना मुल्ज़िम पर लड़की या इस के वालदैन के आइद करदा इल्ज़ामात साबित नहीं किए जा सके ।

जज ने कहा कि इस्तिग़ासा और लड़की के वालदैन ने मुल्ज़िम शकील पर आइद इल्ज़ामात का कोई सबूत पेश नहीं किया चुनांचे उसे दफ़आत 328, 506, 366और 376 क़ानून-ए-ताज़ीरात हिंद के तहत आइद करदा इल्ज़ामात से बरी किया जाता है । शकील के ख़िलाफ़ शिकायत 28 जनवरी 2009 को 19 साला लड़की ने दर्ज करवाई थी ।इस ने कहा कि इस से सादा काग़ज़ पर दस्तख़त लिए गए थे ।

TOPPOPULARRECENT