Tuesday , December 12 2017

लड़ाका तैय्यारों के हादसात इंसानी ग़लती और तकनीकी ख़ामीयों का नतीजा :अनटोनी

लोक सभा में आज वज़ारत-ए-दिफ़ा की जानिब से जो आदाद-ओ-शुमार पेश किए गए उन के मुताबिक़ 2008 से हिंदूस्तानी फिजा मुख़्तलिफ़ हादिसात में अपने 33 लड़ाका तय्यारे बिशमोल तीन सखोटी । 30MKI से महरूम हो गया । मुख़्तलिफ़ हादिसात में ये तय्यारे या तो तबाह ह

लोक सभा में आज वज़ारत-ए-दिफ़ा की जानिब से जो आदाद-ओ-शुमार पेश किए गए उन के मुताबिक़ 2008 से हिंदूस्तानी फिजा मुख़्तलिफ़ हादिसात में अपने 33 लड़ाका तय्यारे बिशमोल तीन सखोटी । 30MKI से महरूम हो गया । मुख़्तलिफ़ हादिसात में ये तय्यारे या तो तबाह हो गए या लापता हो गए । हादिसात का शिकार हुए लड़ाका तय्यारों मैं महकमा दिफ़ा के 26 आफ़िसरान भी अपने क़ीमती जानों से हाथ धो बैठे ।

वज़ीर-ए-दिफ़ा ए के अनटोनी ने लोक सभा में आई ए एफ़ के हादिसों के मुताल्लिक़ पूछे गए सवाल का तहरीरी जवाब देते हुए कहा कि गुज़शता तीन सालों के दौरान यानी 2008-11 और जारीया साल में मार्च तक 3 लड़ाका तय्यारे बिशमोल एक जगवार दो माईरीज ।000 तीन सुखोई ।0 7 ऐम आई जी सीरीज़ और 10 हैली कापटरस मुख़्तलिफ़ हादिसात में तबाह होगए जबकि महिकमा दिफ़ा के 26 ओहदेदार बिशमोल 13 पायलेटस अपनी क़ीमती जानों से हाथ धो बैठे । उन्होंने कहा कि बेशतर हादिसात इंसानी ग़लतीयों और तकनीकी ख़ामीयों की वजह से रौनुमा हुए ।

इन तमाम हादिसात की तहक़ीक़ात तफ़सीली तौर पर एक तहक़ीक़ाती अदालत के ज़रीया करवाई गईता कि हादिसात की वजूहात मालूम की जा सके और उन अहम पहलुओं को मद्द-ए-नज़र रखा जाए जिनके तहदीदात हादिसात का इआदा ना हो सके । वज़ीर-ए-दिफ़ा ने अलबत्ता उन क़ियास आराईयों को मुस्तर्द कर दिया कि
हादसात ना तजुर्बाकार पायलेटस की वजह से रुनुमा हुए । उन्होंने अपनी बात जारी रखते हुए कहा कि पायलटस का पेशा ऐसा है जिनकी सलाहीयतों में बेहतरी का सिलसिला हमेशा जारी रहता है ।

TOPPOPULARRECENT