Sunday , January 21 2018

वक़्फ़ जायदादों के तहफ़्फ़ुज़ को यक़ीनी बनाने मैपिंग और डिजिटलाईज़ काम में तेज़ी

रियासत में वक़्फ़ जायदादों के तहफ़्फ़ुज़ को यक़ीनी बनाने के लिए जायदादों से मुताल्लिक़ रेकॉर्ड की इलेक्ट्रॉनिक मैपिंग और डिजिटलाईज़ करने का अमल तेज़ करने का फैसला किया गया। इस सिलसिले में सेक्रेट्री अकलीयती बहबूद अहमद नदीम न

रियासत में वक़्फ़ जायदादों के तहफ़्फ़ुज़ को यक़ीनी बनाने के लिए जायदादों से मुताल्लिक़ रेकॉर्ड की इलेक्ट्रॉनिक मैपिंग और डिजिटलाईज़ करने का अमल तेज़ करने का फैसला किया गया। इस सिलसिले में सेक्रेट्री अकलीयती बहबूद अहमद नदीम ने आज वक़्फ़ सर्वे कमिश्नर और मुख़्तलिफ़ इदारों के नुमाइंदों के साथ इजलास मुनाक़िद किया ।

उन्हों ने डिजिटलाईज़ेशन में महारत रखने वाले बाअज़ इदारों के नुमाइंदों को इजलास में तलब करते हुए उन्हें वक़्फ़ बोर्ड रेकॉर्ड की तफ़सीलात से वाक़िफ़ करवाया। बताया जाता है कि सेक्रेट्री अकलीयती बहबूद ने औक़ाफ़ी जायदादों के तहफ़्फ़ुज़ और नाजायज़ क़ब्ज़ों को रोकने के लिए रिकॉर्ड्स को डिजिटलाईज़ करने के फैसला से वाक़िफ़ किराया। हुकूमत ने मालीयाती साल 2013-14 में वक़्फ़ सर्वे कमिश्नरेट को 11 करोड़ रुपये का बजट मुख़तस किया है जिस में 10 करोड़ रुपये रेकॉर्ड्स के डिजिटलाईज़ेशन और दूसरे वक़्फ़ सर्वे की तकमील पर ख़र्च किए जाएंगे।

बताया जाता है कि सेक्रेट्री अकलीयती बहबूद ने सरकारी इदारों को इस काम की तकमील के सिलसिले में अपनी तजावीज़ पेश करने 15 दिन का वक़्त दिया है। तजावीज़ वसूल होने के बाद इस काम के लिए किसी एक इदारा का इंतिख़ाब किया जाएगा।

इजलास में वक़्फ़ सर्वे कमिश्नर हसन अली बेग ने औक़ाफ़ी जायदादों के रेकॉर्ड के तहफ़्फ़ुज़ के इक़दामात और जारीया वक़्फ़ सर्वे की तफ़सीलात से वाक़िफ़ करवाया। उन्हों ने कहा कि पहला सर्वे मुकम्मल हो चुका है जबकि दूसरे का काम जारी है।

TOPPOPULARRECENT