Tuesday , December 12 2017

वक़्फ़ बोर्ड फाईलस को खु़फ़ीया रखने पर महिकमा अक़ल्लीयती बहबूद की नाराज़गी

हैदराबाद । १७ मई : ( एजैंसीज़ ) : ए पी वक़्फ़ बोर्ड की इस खु़फ़ीया क़रारदाद के किसी भी फाईलों को महिकमा अक़ल्लीयती बहबूद के हवाले ना किया जाय पर क़दर नाराज़गी का इज़हार करते हुए सरकारी महिकमा ने कहा कि इस इक़दाम से बोर्ड की शफ़्फ़ाफ़ि

हैदराबाद । १७ मई : ( एजैंसीज़ ) : ए पी वक़्फ़ बोर्ड की इस खु़फ़ीया क़रारदाद के किसी भी फाईलों को महिकमा अक़ल्लीयती बहबूद के हवाले ना किया जाय पर क़दर नाराज़गी का इज़हार करते हुए सरकारी महिकमा ने कहा कि इस इक़दाम से बोर्ड की शफ़्फ़ाफ़ियत मुतास्सिर होगी और मज़ीद बरआँ दोनों मह्कमाजात के दरमयान इख़तिलाफ़ पैदा होंगे ।

इस सिलसिला में एम ए ग़फ़्फ़ार चीफ़ ऐगज़ीक्यूटिव ऑफीसर वक़्फ़ बोर्ड के मकतूब की महिकमा अक़ल्लीयती बहबूद को रवानगी का हवाला दिया गया । आज अंग्रेज़ी अख़बार दी टाईम्स आफ़ इंडिया में सय्यद मुहम्मद ने एक रिपोर्ट शाय की है जिस के बमूजब साबिक़ सैक्रेटरी की जानिब से तलब करदा फाईलस जो रवाना की गई थी वो फ़ोटो कापीयां थीं ताहम खु़फ़ीया क़रारदाद के बाद वक़्फ़ बोर्ड की जानिब से अक़ल्लीयती बहबूद को तमाम फाईलस की रवानगी को मस्दूद कर दिया गया ।

ज़राए ने बताया कि इस फ़ैसले से महिकमा वक़्फ़ बोर्ड और अक़ल्लीयती बहबूद के दरमयान एक तनाज़ा सा पैदा होचुका है । वक़्फ़ बोर्ड के ओहदेदारों को रिश्वत सतानी बे क़ाईदगियों से दूर रखने की ग़रज़ से हाल में महिकमा अक़ल्लीयती बहबूद ने एक क़रारदाद नंबर 139/2012 जारी किया है ।

ज़राए ने बताया कि इस क़रारदाद का इतलाक़ उस वक़्त से हुआ है जब कि महिकमा अक़ल्लीयती बहबूद के साबिक़ सैक्रेटरी ने मुश्तबा बे क़ाईदगियों का जायज़ा लेने के मक़सद से वक़्फ़ बोर्ड से फाईलस तलब कीं । वक़्फ़ बोर्ड की जानिब से महिकमा अक़ल्लीयती बहबूद को फाईलस की रवानगी पर खु़फ़ीया क़रारदाद पर तन्क़ीद करते हुए सरकारी महिकमा के कई ओहदेदारों ने कहा कि वक़्फ़ बोर्ड को इस बात का कोई इख़तियार नहीं है कि वो इसी तरह का कोई इक़दाम करें जिस से कि दो इदारा जात के दरमयान तल्ख़ीयां पैदा हो ।

ताहम उन ओहदेदारों ने इस बात को तस्लीम किया है कि वक़्फ़ बोर्ड ख़ुदमुख़तार है ताहम अभी वो महिकमा अक़ल्लीयती बहबूद के तहत है । अपनी शनाख़्त मख़फ़ी रखने की शर्त पर एक ओहदेदार ने बताया कि वक़्फ़ ऐक्ट 1995 के मुताबिक़ वक़्फ़ बोर्ड को चाहीए कि वो कभी ज़रूरत पेश आए अपने फाईलस तलब किए जाने पर पेश करें और रियास्ती हुकूमत इस सिलसिला में उमूमी और ख़ुसूसी हिदायात जारी कर सकती है और वक़्फ़ बोर्ड को चाहिए कि वो इन हिदायात पर अमल करें ।

ओहदेदारों ने मज़ीद बताया कि वक़्फ़ बोर्ड की जानिब से फाईलस को सरकारी मह्कमाजात को रवानगी से रोकते हुए इस तरह के खु़फ़ीया फ़ैसला पर हुकूमत और सयासी क़ाइदीन इस के ख़िलाफ़ सफ़ आरा हूँ । एक दीगर ओहदेदार ने अपना नाम मख़फ़ी रखने की शर्त पर कहा कि महिकमा अक़ल्लीयती बहबूद के आठ सेक्शन्स में से सिर्फ तीन मुकम्मल कार करद हैं और हम इस बात पर मुत्तफ़िक़ हैं कि वक़्फ़ बोर्ड एक आज़ाद इदारा है ।

ताहम वो हुकूमत को जवाबदेह ज़रूर है । उन्हों ने मज़ीद बताया कि वक़्फ़ बोर्ड के तरीका-ए-कार और फ़ैसला से दोनों मह्कमाजात के दरमयान भरोसा और एतिमाद में कमी और गिरावट आएगी ।

TOPPOPULARRECENT