Tuesday , September 25 2018

वक़्फ़ मामलात की सी बी सी आई डी तहक़ीक़ात का हुक्म

हुकूमत ने ओक़ाफ़ी जायदादों के लीज़ में बड़े पैमाने पर बे क़ाईदगियों और वक़्फ़ क़ानून की ख़िलाफ़वरज़ी के सिलसिले में साबिक़ सदर नशीन वक़्फ़ बोर्ड मौलाना ग़ुलाम अफ़ज़ल ब्याबानी ख़ुसरो पाशाह और वक़्फ़ बोर्ड के दीगर दो ओहदेदारों हबीबुद्दी

हुकूमत ने ओक़ाफ़ी जायदादों के लीज़ में बड़े पैमाने पर बे क़ाईदगियों और वक़्फ़ क़ानून की ख़िलाफ़वरज़ी के सिलसिले में साबिक़ सदर नशीन वक़्फ़ बोर्ड मौलाना ग़ुलाम अफ़ज़ल ब्याबानी ख़ुसरो पाशाह और वक़्फ़ बोर्ड के दीगर दो ओहदेदारों हबीबुद्दीन( साबिक़ सी ई ओ) और मुहम्मद शम्सुद्दीन( ऑफ़िस क्लर्क )के ख़िलाफ़ सी बी सी आई डी तहक़ीक़ात का हुक्म दिया है।

बावसूक़ ज़राए के मुताबिक़ किरण कुमार रेड्डी ने उनके दफ़्तर में तक़रीबन एक साल से ज़ेरे अलतवा इस फाईल की यकसूई करते हुए सी बी सी आई डी तहक़ीक़ात को हरी झंडी दिखाई दी। उन्होंने जायदादों में बे क़ाईदगियों से मुताल्लिक़ तहक़ीक़ाती रिपोर्ट की बुनियाद पर साबिक़ वक़्फ़ बोर्ड की मीयाद के दौरान लिए गए तमाम फ़ैसलों की जांच का हुक्म दिया है।

16 दिसम्बर 2008 ता 15 दिसम्बर 2013 तक वक़्फ़ बोर्ड की मीयाद के दौरान जितनी भी क़रारदादें मंज़ूर की गईं इन तमाम को तहक़ीक़ात के दायरे में शामिल किया गया है। चीफ़ मिनिस्टर की हैसियत से इस्तीफे से दो हफ़्ते क़ब्ल किरण कुमार रेड्डी ने सी बी सी आई डी तहक़ीक़ात का हुक्म देते हुए फाईल महिकमा अक़िलियती बहबूद को रवाना करदी है। बताया जाता है कि महिकमा ने अभी तक इस फाईल को सी बी सी आई डी के हवाले नहीं किया।

TOPPOPULARRECENT