Friday , December 15 2017

वज़ीरिस्तान में मुल्ला नज़ीर की हलाकत के ख़िलाफ़ एहतेजाज

पाकिस्तान के क़बाइली इलाक़े जुनूबी वज़ीरिस्तान में तालिबान कमांडर मुल्ला नज़ीर की अमरीकी जासूस तैयारे के हमले में हलाकत के ख़िलाफ़ एक एहतेजाजी मुज़ाहरा हुआ है जिस में क़बाइली अमाइदीन, उल्मा और आम शहरीयों ने शिरकत की है। इत्ति

पाकिस्तान के क़बाइली इलाक़े जुनूबी वज़ीरिस्तान में तालिबान कमांडर मुल्ला नज़ीर की अमरीकी जासूस तैयारे के हमले में हलाकत के ख़िलाफ़ एक एहतेजाजी मुज़ाहरा हुआ है जिस में क़बाइली अमाइदीन, उल्मा और आम शहरीयों ने शिरकत की है। इत्तिलाआत के मुताबिक़ हफ़्ता को जुनूबी वज़ीरिस्तान के सदर मुक़ाम वाना में ये एहतेजाजी मुज़ाहरा हुआ।

मुक़ामी इंतिज़ामीया के एक अहलकार ने बी बी सी को तसदीक़ करते हुए बताया कि मुज़ाहिरे में हज़ारों लोगों ने शिरकत की है जिस में सरकर्दा क़बाइली सरदारों के इलावा उल्मा और आम शहरी भी शामिल थे। उन्हों ने कहा कि मुज़ाहिरे के दौरान वाना बाज़ार मुकम्मल तौर पर बंद था और मुज़ाहिरीन वाना से होते हुए आज़म वरसिक के क़रीब शेन वरसिक के इलाक़े में जमा हुए और बाद में लोग पुरअमन तौर पर मुंतशिर हो गए। इत्तिलाआत के मुताबिक़ जलसे से मलिक दोस्त मुहम्मद, मलिक मुहिब समेत चंद अहम क़बाइली अमाइदीन ने ख़िताब किया है।

मुक़र्ररीन ने अपने ख़िताब में कहा कि किसी सूरत में भी वाना में अमन-ओ-अमान को बरक़रार रखा जाएगा । अमरीका ने उन पर ड्रोन हमला कर के दहश्तगर्दी की है। एहतेजाजी जलसे के आख़िर में एक क़रारदाद मंज़ूर की जिस में अक़वाममुत्तहिदा से अपील की गई है कि इस वाक़े के बाद अमरीका को एक दहश्तगर्द मुल्क क़रार दिया जाए।

TOPPOPULARRECENT