Friday , December 15 2017

वज़ीर-ए-आज़म की सदर जम्हूरिया से मुलाक़ात ,ग़ैर मुल्की दौरे पर तबादला-ए-ख़्याल

वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह कल सदर जम्हूरिया प्रण‌ब मुख‌र्जी से सज़ा-ए-याफ़ता अरकान मुक़न्निना पर मुतनाज़ा आर्डीनैंस से मुतवक़्क़े दसतबरदारी के लिए काबीनी इजलास से क़बल मुलाक़ात करेंगे। मर्कज़ी काबीना का इजलास कल मुक़र्रर है ताकी मुतन

वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह कल सदर जम्हूरिया प्रण‌ब मुख‌र्जी से सज़ा-ए-याफ़ता अरकान मुक़न्निना पर मुतनाज़ा आर्डीनैंस से मुतवक़्क़े दसतबरदारी के लिए काबीनी इजलास से क़बल मुलाक़ात करेंगे। मर्कज़ी काबीना का इजलास कल मुक़र्रर है ताकी मुतनाज़ा आर्डीनैंस से दसतबरदारी इख़तियार करली जाये। जिसकी क़िस्मत पर समझा जाता है कि राहुल गांधी की इस इक़दाम की सख़्त मज़म्मत के बाद पहले ही मोहर लग चुकी है। फ़िलहाल आर्डीनैंस सदर जम्हूरीया के पेशे नज़र है जो ग़ैर मुल्की दौरे पर रवाना होने वाले हैं।

प्रण‌ब मुख‌र्जी समझा जाता है कि इस आर्डीनैंस के बारे में ज़हनी तहफ़्फुज़ात रखते हैं वो बी जे पी के वफ़द के उन पर राय ज़ाहिर करने केलिए दबाव डालने के बाद सीनीयर मर्कज़ी वुज़रा से मुलाक़ात करचुके हैं जिस की वजह से ये क़ियास आराईयां गर्म हैं कि वो आर्डीनैंस हुकूमत को वापिस करदेंगे। इस परेशानी से बचने केलिए तवक़्क़ो है कि वज़ीर-ए-आज़म इस इक़दाम से दसतबरदारी के हुकूमत के मंसूबे की वज़ाहत करेंगे।

नायाब सदर कांग्रेस राहुल गांधी ने कांग्रेस पर ज़ोर दिया है कि इस आर्डीनैंस के बारे में अज़ सर-ए-नौ ग़ौर किया जाये। वो उसे पहले ही मुकम्मल बकवास क़रार दे चुके हैं और कह चुके हैं उसे फाड़ कर फेंक दिया जाये। वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह अमरीका से वापसी मुतवक़्क़े है। समझा जाता है कि वो सदर जम्हूरीया को सदर अमरीका बारक ओबामा और वज़ीर-ए-आज़म पाकिस्तान नवाज़ शरीफ़ से बातचीत और अक़वाम-ए-मुत्तहिदा की जनरल असेम्बली से अपना ख़िताब की तफ़सीलात से भी वाक़िफ़ करवाईंगे। फ़्रैंकफ़र्ट से मौसूला इत्तिला के बमूजब वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह रात भर क़ियाम के बाद आज वतन वापसी के लिए रवाना होगए।

उन्होंने अपने दौरे अमरीका से वापसी में फ्रैंक फ़रुट में तवक्कुफ़ किया था। सदर ओबामा से मुलाक़ात के बाद वापसी के वक़्त एक कमयाब ख़ैर सगाली इशारा देते हुए बारक ओबामा मनमोहन सिंह के साथ उनकी कार्तिक आए थे ताकी उन्हें विदा करसकें। एक दिन क़बल वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने अक़वाम-ए-मुत्तहिदा की जनरल असेम्बली से ख़िताब किया था जहां उन्होंने सरहद पार से हिन्दुस्तान के ख़िलाफ़ दहश्तगर्दी कार्यवाईयों पर फ़िक्रमंदी ज़ाहिर की थी उन्होंने सलामती कौंसल में इस्लाहात पर भी ज़ोर दिया और शाम और ईरान के साथ बोहरान की यकसूई केलिए सिफ़ारतकारी को एक मौक़ा देना की ज़रूरत पर ज़ोर दिया।

दौरा अमरीका के मौक़े पर उनकी मुलाक़ात वज़ीर-ए-आज़म नवाज़ शरीफ़ के अलावा वज़ीर-ए-आज़म बंगला देश शेख़ हसीना और नेपाल के उबूरी लीडर खलराज रेगमी से भी हुई। वज़ीर-ए-आज़म के हमराह मुशीर क़ौमी सलामती शिव शंकर मेनन ,मोतमिद ख़ारिजा सुजाता सिंह और दीगर सीनीयर ओहदेदारों के अलावा वज़ीर-ए-ख़ारजा सलमान ख़ुरशीद भी थे।जो दो हफ़्ता तवील ग़ैर मुल्की दौरे पर हैं। वो वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह के वफ़द में न्यूयार्क में शामिल होगए और अब वो दौरा रूस पर रवाना होने वाले हैं। वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह 27 सितंबर को न्यूयार्क पहुंचे थे और कल वहां से वापिस रवाना होगए।

TOPPOPULARRECENT