Tuesday , December 12 2017

वज़ीर-ए-आज़म (प्रधान मंत्री )पाकिस्तान की अदालती फ़ैसला के ख़िलाफ़ अपील

वज़ीर-ए-आज़म (प्रधान मंत्री )पाकिस्तान यूसुफ़ रज़ा गिलानी सुप्रीम कोर्ट में आइन्दा हफ़्ता उनहीं तहक़ीर अदालत का मुजरिम क़रार दिए जाने के फ़ैसला के ख़िलाफ़ अपील दाख़िल करेंगे। उन्हों ने फ़ैसला में उन पर आइद करदा इल्ज़ामात को मज

वज़ीर-ए-आज़म (प्रधान मंत्री )पाकिस्तान यूसुफ़ रज़ा गिलानी सुप्रीम कोर्ट में आइन्दा हफ़्ता उनहीं तहक़ीर अदालत का मुजरिम क़रार दिए जाने के फ़ैसला के ख़िलाफ़ अपील दाख़िल करेंगे। उन्हों ने फ़ैसला में उन पर आइद करदा इल्ज़ामात को मज़हकाख़ेज़ क़रार देते हुए कहा कि अदालत ने उन के ख़िलाफ़ जालसाज़ी से माफ़ी के सिलसिला में सख़्त कार्रवाई की है।

एक अख़बारी इत्तिला के बमूजब वज़ीर-ए-आज़म गिलानी के मुशीर क़ानूनी एतिज़ाज़ अहसन और उन के साथी अपील का मुसव्वदा तैय्यार कर रहे हैं। रोज़नामा डेली टाइम्स ने ज़राए का हवाला देते हुए कहा कि अपील का अहम नुक्ता ये होगा कि गिलानी पर फ़ैसला में आइद इल्ज़ामात में से एक में कहा गया है कि

जब गिलानी ने फ़रवरी में निशानदेही की थी कि वो सदर-ए-ममलकत के ख़िलाफ़ स्विटज़रलैंड के ओहदेदारों को मकतूब(खत) रवाना नहीं कर सकते लेकिन फ़र्द-ए-जुर्म में इस बात का कोई तज़किरा नहीं है कि गिलानी ने सुप्रीम कोर्ट के डसमबर 2009 -ए-के फ़ैसला का मुज़हका उड़ाया था जिस में जालसाज़ी मुक़द्दमात से माफ़ी को मंसूख़ करदिया गया था

जिस से सदर आसिफ़ अली ज़रदारी और दीगर(दूसरे) 8 हज़ार से ज़्यादा अफ़राद को फ़ायदा हुआ था लेकिन अदालत के फ़ैसला में वज़ीर-ए-आज़म (प्रधान मंत्री )को 28 अप्रैल को ये कहते हुए मुजरिम क़रार दिया गया कि इन के अलफ़ाज़ से सुप्रीम कोर्ट की तहक़ीर होती है। ज़राए के बमूजब एतिज़ाज़ अहसन अदालत के ब्यान करदा दीगर(दूसरे) नकात पर भी एतराज़ करेंगे।

TOPPOPULARRECENT