Friday , December 15 2017

मोदी आज बिहार में, सवा लाख करोड़ खुसुसि पैकेज का ऐलान

पटना : बिहार के दौरे पर आये वजीरे आजम नरेंद्र मोदी ने बिहार को सवा लाख करोड़ के खुसुसि पैकेज का एलान किया है।  इसके अलावा उन्होंने चल रही मंसूबों के लिए 40 हजार करोड़ रुपये देने का एलान किया है। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के पास बचे हुए आठ हजार 282 करोड रुपये इसमें शामिल नहीं है।

नीतीश कुमार को खुश करने के लिए यूपीए हुकूमत ने बिहार को 12 हजार करोड़ रुपये दिये लेकिन यूपीए ने सिर्फ कागज पर दिया।  दिल्ली में एनडीए हुकूमत  बनने के बाद बिहार में खर्च ज्यादा किया गया है। 

बिहार को खुसुसि रियासत का दर्जा दिये जाने की नीतीश की मांग पर नरेंद्र मोदी ने कहा कि सेहतयाब सख्श डॉक्टर के पास जाता है क्या? भरपेट खाने वाला मांगने जायेगा क्या? बिहार की आवाम तय करे कि रियासत क्या चाहता है अगर बिहार बीमारू नहीं तो मांगने की क्या जरुरत है? उन्होंने कहा कि अबतक बिहार को दो पैकेज मिल चुके हैं।  वाजपेयी हुकूमत ने 10 हजार करोड़ का पैकेज बिहार को दिया।  2013 तक बिहार इसे खर्च नहीं कर पाया।  9000 करोड़ खर्च किया गया है अब भी 100 करोड़ बिहार के पास बचा है।  

पीएम ने कहा कि गुजिशता रैली में मैंने बिहार को बीमारू रियासत कहा था जिसपर सीएम नाराज हो गये थे।  सीएम कहा कि बिहार बीमारू रियासत नहीं है।  नरेंद्र मोदी ने कहा कि सीएम के मुंह में घी-शक्कर जो उन्होंने यह बात कही। अगर बिहार बीमारू रियासत नहीं रहा तो सबसे ज्यादा खुशी मुझे होगी।  

वजीरे आजम ने कहा एक तरफ मेक इन इंडिया और दूसरी ओर स्कील इंडिया का प्रोग्राम चलाया जिसका फायदा नजर आ रहा है।  हर गांव में  5 से 10 नौजवान रहते हैं जो कुछ कर दिखाने की कूवत रखते हैं। मुल्क में स्टार्ट अप के लिए बड़ी मंसूबा तैयार कर रखी है।

लोकसभा इंतिख़ाब के दौरान हमने ने 50 हजार करोड़ का पैकेज देने का वायदा किया था। बिहार को इससे ज्यादा मिल रहा है । इनमें कोई पुरानी नहीं है। ये चालू साल में शुरू होंगी। फाइनेंस वुजरा इसे मंजूरी दे चुका है।

पैकेज में मिल सकता है यह सब

>बिहार में इन्वेस्ट करने पर मरकज़ी टैक्स में बड़ी रियायत
>महात्मा गांधी सेतु के बराबर गंगा नदी पर 6 लेन का पुल
>मोकामा में सड़क शरीक रेल पुल
>पटना रिंग रोड ( लागत 1500 करोड़)
>तकरीबन 1300 किलोमीटर सड़कें व पुलों के लिए 26 हजार करोड़ की मंसूबे
>बरौनी खाद कारखाना का रेनूवल, पेट्रो काम्पलेक्स
>बांका बिजलीघर समेत बिजली की कई मंसूबे
>कौशल विकास केंद्र (यूनिवर्सिटी भी)
>तालीमी अदारे
>एक और एम्स
>नया एयरपोर्ट
>कोसी इलाक़े के लिए मंसूबे
>सैलाब के मुस्तकिल उपाय से जुड़ी मंसूबे
>घरेलू गैस के लिए पाइपलाइन
>रेल मंसूबे (इनमें वह कारखाने भी शामिल हो सकते हैं, जिनके सिर्फ साइनबोर्ड हैं)।

TOPPOPULARRECENT