Friday , December 15 2017

वजीरे आला ने शरद-नीतीश के खिलाफ किया जंग का एलान

सूबे के वजीरे आला जीतन राम मांझी ने जदयू के क़ौमी सदर शरद यादव व साबिक़ वजीरे आला नीतीश कुमार के खिलाफ जंग का ऐलान कर दिया है। जुमा को जिले के सत्तरकटैया ब्लॉक के घीना गांव में मुनक्कीद माता शबरी, बाबा दीनाभद्री व कारू खिरहर मेला व

सूबे के वजीरे आला जीतन राम मांझी ने जदयू के क़ौमी सदर शरद यादव व साबिक़ वजीरे आला नीतीश कुमार के खिलाफ जंग का ऐलान कर दिया है। जुमा को जिले के सत्तरकटैया ब्लॉक के घीना गांव में मुनक्कीद माता शबरी, बाबा दीनाभद्री व कारू खिरहर मेला व प्रमंडलीय महादलित कोन्फ्रेंस का इफ़्तिताह करने के बाद सूबे के वजीरे आला जीतन राम मांझी ने कहा कि नीतीश कुमार ने बहुत अच्छा काम किया।

उन्होंने एक महादलित को वजीरे आला के ओहदे पर बिठाया, लेकिन अब कौन सी ऐसी हालत आ गयी है कि उन्होंने हमसे बात तक करनी छोड़ दी। वह भीष्म पितामह बन गये हैं, लेकिन भीष्म पितामह की चुप्पी की वजह से द्रौपदी का चीरहरण हुआ और महाभारत हुआ।

बिहार में भी ऐसा हो सकता है। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार मुझसे कुछ भी कहते, मैं उनकी सारी बातें मानता, लेकिन वह कह नहीं रहे, कहवा रहे हैं। कभी नीरज सिंह, ललन सिंह तो पीके शाही से बयान दिलवाते हैं। अब एक नया यमदूत और आ गया है केसी त्यागी। इनलोगों को गरीबों, दलितों, की पीड़ा से कोई मतलब नहीं। और हमने जब इन तबकों के लिए तरक़्क़ी का काम करना शुरू किया तो गरीबों के मुखालिफत तबके के लोगों के पेट में दर्द होने लगा।

क़ौमी सदर शरद यादव पर वार करते सीएम ने कहा कि शरद यादव ने बिना मुझ से पूछे सनीचर को एमएलए की बैठक बुलवा ली। उन्हें यह हक़ किसने दिया। मैंने जब उनसे पूछा तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। इसलिए मैंने भी 20 फरवरी को एमएलए की बैठक बुलायी है।

उसी दिन जो एमएलए कहेंगे, उनकी बात मानी जायेगी। वह कहेंगे तो वजीरे आला की कुर्सी छोड़ देंगे। सीएम ने कहा कि हम गरीबों का दर्द जानते हैं। अगर हम रह गये तो हर गरीब लोगों का किस्मत बदल देंगे।

TOPPOPULARRECENT