Friday , December 15 2017

वजीर‍-ए‍-आजम‌ का उम्मीदवार बनाए जाने

वज़ीर-ए-आला गोवा मनोहर पारेकर ने मीडिया की इन रिपोर्टस की तरदीद की जहां ये कहा गया था कि मनोहर पारेकर ने पार्टी की आमादगी के बाद पार्टी के वज़ारत-ए-उज़मा के उम्मीदवार के तौर पर उन्हें पेश किए जाने से इत्तिफ़ाक़ किया है।

वज़ीर-ए-आला गोवा मनोहर पारेकर ने मीडिया की इन रिपोर्टस की तरदीद की जहां ये कहा गया था कि मनोहर पारेकर ने पार्टी की आमादगी के बाद पार्टी के वज़ारत-ए-उज़मा के उम्मीदवार के तौर पर उन्हें पेश किए जाने से इत्तिफ़ाक़ किया है।

उन्होंने कहा कि अफ़सोस की बात है कि ये एक ऐसे बयान को उनसे जोड़ दिया गया जो उन्होंने दिया ही नहीं। दरअसल ये हरकत क़सदन की गई है ताकि बी जे पी के वज़ारत-ए-उज़मा के उम्मीदवार के तौर पर अवाम को उलझन में डाला जाये। याद रहे कि मनोहर पारेकर ने इसे पहले एक प्रेस कान्फ़्रेंस में ये ज़रूर कहा था कि आम आदमी पार्टी को ये पूछने का कोई हक़ नहीं है कि वो बी जे पी से ये पूछे कि उनकी पार्टी ने वज़ारत-ए-उज़मा के उम्मीदवार के तौर पर किस को नामज़द किया है| जबकि दुनिया जानती है कि नरेंद्र मोदी वज़ारत-ए-उज़मा के उम्मीदवार हैं।

उन्होंने कहा कि बी जे पी की गोवा यूनिट रियासत से लोक सभा की दो नशिस्तें जीतने की पाबंद है ताकि मोदी क़ियादत में पार्टी को कामयाबी मिल सके। वाज़िह रहे कि पीर के रोज़ आम आदमी पार्टी के क़ौमी आमिला रुक्न दिनेश वाघेला ने कहा था कि बी जे पी को मोदी की नहीं बल्कि पारेकर की बहैसियत वज़ारत-ए-उज़मा उम्मीदवार ताईद करनी चाहिए।

TOPPOPULARRECENT