Monday , December 11 2017

वाकिया इत्तेफाक या लापरवाही से नहीं हुई : नीतीश

वजीर ए आला नीतीश कुमार ने बुध को धर्मासती गंडामन स्कूल की प्रिंसिपल मीना कुमारी की गिरफ्तारी के चंद घंटे बाद प्रेस कांफ्रेस में बताया कि 23 बच्चों की मौत की वाकिया आसान, आम या भूल से नहीं हुई है। यह भी तय है कि यह वाकिया इत्तेफाक या ल

वजीर ए आला नीतीश कुमार ने बुध को धर्मासती गंडामन स्कूल की प्रिंसिपल मीना कुमारी की गिरफ्तारी के चंद घंटे बाद प्रेस कांफ्रेस में बताया कि 23 बच्चों की मौत की वाकिया आसान, आम या भूल से नहीं हुई है। यह भी तय है कि यह वाकिया इत्तेफाक या लापरवाही से नहीं हुई है। मेरे सियासी ज़िन्दगी में मशरक की वाकिया सबसे ज्यादा दिल दहला देनेवाली है। इसका हमें बेहद अफ़्सोश है। वाकिया में शामिल मुजरिमों की खोज के लिए पुलिस तहकीक जारी है। मुजरिमों को इस जुर्म के लिए कानून के कटघरे में खड़ा होना होगा।

वाकिया के बाद पहली बार अपनी ख़ामोशी तोड़ते हुए वजीर ए आला ने ओपोजिशन पार्टियों पर सीधा वार किया कहा, न तो मैं खामोश रहनेवाला इंसान हूं और न ही घर में बैठनेवाला। बिहार की अवाम ने मुङो जिम्मेवारी दी है और उसका मुङो एहसास है। कोई लाख चाह ले, जब तक बिहार की अवाम और ख़ुदा मेरे साथ हैं, मेरा कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता। जम्हूरियत में अवाम मालिक होती है। सबको पता है कि पैर में चोट है। जिश्मानी लाचारी को कोई मजाक का मौजु बनाये, तरह-तरह के गोले दागे जा रहे हैं, इतने निचले सतह तक जाकर कोई सियासत करनेवालों को मुबारक। हमने कभी उस हद तक गिर कर सियासत न की है और न ही करूंगा। वाकिया के दिन से लेकर आज तक पल-पल की जानकारी ले रहा हूं।

वजीर ए आला ने कहा कि पुलिस पूरे मामले का तहकीक कर रही है। प्रिंसिपल की गिरफ्तारी हो चुकी है। पूछताछ में कुछ खुलासे होंगे। एसआइटी का तशकील किया गया है, जिसमें माहिर पुलिस अफसरों को लगाया गया है। हर पहलू से जांच होगी कि इसके पीछे क्या वज़ह हैं। एफएसएल की रिपोर्ट में यह बात ज़ाहिर हुई है कि ज़हर की महज़ ज्यादा थी। इससे कुछ और इशारा होते हैं।

TOPPOPULARRECENT