Thursday , November 23 2017
Home / Khaas Khabar / वाघा से ही लौट गई समझौता एक्सप्रेस

वाघा से ही लौट गई समझौता एक्सप्रेस

लाहौर से दिल्ली आ रही ‘समझौता एक्सप्रेस’ को वाघा बॉर्डर से ही लौटा दिया गया। इसमें हिंदुस्तान और पाकिस्तान दोनों मुल्क के मुसाफिर सवार थे। यह कदम इंदियन रेलवे ओहदेदार के पाकिस्तानी ओहदेदारों को हिंदुस्तान के पंजाब में किसानों के मुजाहिरो की इत्तेला देने के बाद उठाया गया।

पाकिस्तानी रेलवे के तरजुमान रऊफ ताहिर का कहना था कि ट्रेन में हिंद और पाकिस्तान दोनों ममालिक के 193 मुसाफिर सवार थे। ‘समझौता एक्सप्रेस’ के वाघा बार्डरपर पहुंचने पर इनमें से पाकिस्तानी मुसाफिरों को उतार दिया गया। पाकिस्तानी अखबार ‘डॉन’ की वेबसाइट के मुताबिक इसमें 57 पाक मुसाफिर सवार थे। हालांकि एक मुकामी पाकिस्तानी अखबार ने स्टेशन मास्टर के हवाले से लिखा है कि ट्रेन में 215 मुसाफिर सवार थे।

हिंदुस्तान के रियासत पंजाब में किसान कपास की फसल नष्ट हो जाने पर मुआवजे की मांग को लेकर एहतिजाजी मुज़ाहिरा प्रदर्शन कर रहे हैं। अपने मुज़ाहिरे के दौरान उन्होंने कई ट्रेनों को रोका है। जानकारी के मुताबिक पाकिस्तानी मुसाफिरों को किसी तकलीफ से बचाने और सेक्युरिटी के लिहाज से ‘समझौता एक्सप्रेस’ को रोकने का फैसला किया गया।

पाकिस्तानी रेलवे के ओहदेदारों ने कहा है कि अब यह ट्रेन पीर के रोज़ दिल्ली के लिए रवाना होगी। वज़ारत ए खारेजा के तरजुमान काजी खलीलुल्लाह ने कहा है कि पाकिस्तान इस मामले को देख रहा है।

फरवरी 2007 में ‘समझौता एक्सप्रेस’ में हुए धमाकों में 68 लोगों की मौत हो गई थी, जिसमें से 42 पाकिस्तानी मुसाफिर थे। इसी साल हुकूमत ए पाकिस्तान ने समझौता बलास्ट के अहम मुल्ज़िम नबा कुमार सरकार उर्फ स्वामी असीमानंद की जमानत का एहतिजाज न करने पर हिंदुस्तान के सामने अपना एहतिजाज जताया था।

पाकिस्तानी वज़ारत ए खारेज़ा ने उम्मीद जताई थी कि हुकूमत ए हिंद इस धमाके में शामिल लोगों को सजा दिलाने का काम करेगी।

TOPPOPULARRECENT