वायु प्रदूषण से हर साल 90 प्रतिशत बच्चों की हो रही है मौत: WHO

वायु प्रदूषण से हर साल 90 प्रतिशत बच्चों की हो रही है मौत: WHO

5 साल से कम उम्र के 10 बच्चों की मौत में से 1 बच्चे की मौत का कारण प्रदूषित हवा है। भारत जैसे देश में लगभग पूरी जनसंख्या डब्ल्यूएचओ और राष्ट्रीय वायु गुणवत्ता मानकों से अधिक प्रदूषित हवा में सांस लेने को मजबूर हैं।

ग्रीनपीस इंडिया के वायु प्रदूषण कैंपेनर सुनील दहिया ने बताया कि वैश्विक स्तर पर सेटेलाइट डाटा के विश्लेषण के मुताबिक कोयला और परिवहन उत्सर्जन के दो प्रमुख स्त्रोत हैं।

नाइट्रोजन डाई ऑक्साइड (एनओ2) भी पीएम 2.5 और ओजोन के बनने में अपना योगदान देता है, ये दोनों वायु प्रदूषण के सबसे खतरनाक रूपों में बड़े क्षेत्रों को प्रभावित करते हैं।

देश में दिल्ली-एनसीआर, सोनभद्र-सिंगरौली, कोरबा व ओडिशा का तेलचर क्षेत्र इन 50 क्षेत्रों की सूची में शामिल है। इन तथ्यों से साफ है कि ऊर्जा और परिवहन क्षेत्र में जीवाश्म ईंधन जलने का वायु प्रदूषण से सीधा संबंध है।

सोमवार को भी दिल्ली-एनसीआर में हवा की गुणवत्ता ‘बहुत खराब’ श्रेणी में रही। शाम करीब 4 बजे वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) का औसत स्तर 367 रहा, जो कि बहुत खराब माना जाता है।

पड़ोसी शहर गाजियाबाद की स्थिति सोमवार को भी गंभीर बनी रही, जहां एक्यूआई स्तर 430 रहा, जबकि गुरुग्राम का स्तर 389, नोएडा का स्तर 374 और ग्रेटर नोएडा का स्तर 385 रहा। गुरुग्राम, नोएडा व ग्रेटर नोएडा भी बहुत खराब श्रेणी में रहे।

अधिकारियों की मानें तो निर्माण कार्य, वाहनों से होने वाले प्रदूषण, पंजाब एवं हरियाणा में खेतों में पराली जलाए जाने जैसे कारकों की वजह से एनसीआर के मौसम में हवा खराब हो रही है। नवम्बर के शुरुआती दिनों में दीपावली जैसा बड़ा त्योहार है। आतिशबाजी की वजह से हालात और खराब होने की आशंका है।

Top Stories