वाराणसी से पीएम मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे दलित नेता चंद्रशेखर आजाद

वाराणसी से पीएम मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे दलित नेता चंद्रशेखर आजाद

मेरठ: प्रियंका गांधी वाड्रा ने बुधवार को उत्तर प्रदेश के मेरठ में भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आज़ाद से मुलाकात की। आज़ाद, जिन्हें रावण के रूप में भी जाना जाता है, एक बहुत ही प्रभावशाली दलित नेता हैं जिन्हें चुनाव अंकगणित में बिगाड़ने के लिए जाना जाता है।

कांग्रेस नेता के दौरे के बाद अपने अस्पताल के बिस्तर पर एनडीटीवी से बात करते हुए उन्होंने कहा, “मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने वाराणसी जाऊंगा।”

पेशे से एक वकील भीम आर्मी कार्यकर्ता को देवबंद में चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन में गिरफ्तार किया गया था, जब वह बिना अनुमति के कथित रूप से एक मोटरसाइकिल रैली निकालने की योजना बना रहे थे। कथित तौर पर हिरासत में लेने के बाद वह बीमार पड़ गए, और फिर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया।

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी से मुलाकात के बाद पत्रकारों से हुई वार्ता में भीम आर्मी प्रमुख चन्द्रशेखर ने कहा कि वह किसी से राजनीतिक मुलाकात नहीं करते।

उन्होंने कहा, “मुझे तो उनके साथ आए लोगों के नाम भी नहीं मालूम थे। उनसे मेरी कोई वार्ता नहीं हुई। प्रियंका गांधी ने ही मेरा हाल-चाल जाना और मेरे संघर्ष के बारे में बात की।”

उन्होंने कहा, “इस मुलाकात के दौरान राजनीति पर कोई बात नहीं हुई। मेरा लक्ष्य मोदी को सत्ता से बाहर कर तानाशाही खत्म कर भीम आर्मी के नेतृत्व में बाबा साहब और कांशीराम के आंदोलन को आगे बढ़ाना है।”

वह अब भी गठबंधन के साथ खड़े हैं और इस लोकसभा चुनाव में गठबंधन के ही साथ हैं। चन्द्रशेखर कांग्रेस में नहीं जा रहा है, बहुजन समाज में पैदा हुआ है और यहीं मरेगा।

Top Stories