Wednesday , December 13 2017

वालिदा की मौत पर तेज पाल की उबूरी ज़मानत मंज़ूर

सुप्रीम कोर्ट ने आज सीनियर सहाफ़ी तरूण तेज पाल की तीन हफ़्तों केलिए उबूरी ज़मानत मंज़ूर करली वो अपनी साथी की मुबय्यना इस्मत रेज़ि के इल्ज़ाम में गुज़िशता पाँच माह से क़ैद हैं। उबूरी ज़मानत उन की वालिदा की चिता नज़र-ए-आतिश करने और माबाद

सुप्रीम कोर्ट ने आज सीनियर सहाफ़ी तरूण तेज पाल की तीन हफ़्तों केलिए उबूरी ज़मानत मंज़ूर करली वो अपनी साथी की मुबय्यना इस्मत रेज़ि के इल्ज़ाम में गुज़िशता पाँच माह से क़ैद हैं। उबूरी ज़मानत उन की वालिदा की चिता नज़र-ए-आतिश करने और माबाद आख़िरी रसूमात में शिरकत केलिए मंज़ूर की गई है।

जस्टिस बी एस चौहान और ए के सकरी पर मुश्तमिल बेंच ने तेज पाल के ऐडवोकेट संदीप कुमार के अदालत को तेज पाल की वालिदा के इंतेक़ाल की और आज शाम उनकी चिता नज़र-ए-आतिश करने की इत्तेला देने के बाद ज़मानत मंज़ूर की। ये मामला आज सुबह बेंच के इजलास पर पेश किया गया जिस ने मुक़द्दमा का जायज़ा लेने के बाद कहा कि वो समाअत केलिए मुक़र्रर तमाम मुक़द्दमात की समाअत के बाद इस पर ग़ौर करेगी। बेंच ने 1.50 बजे दिन हुक्म जारी किया ।

एक प्रेस कान्फ्रेंस से ख़िताब करते हुए तेज पाल के वकील ने कहा कि उन के मुवक्किल को तीन हफ़्ते की उबूरी ज़मानत मंज़ूर की गई है । तेज पाल पर इस्मत रेज़ि ,जिन्सी हिरासानी और अपनी जूनियर साथी के विक़ार को मजरूह करने का फ़र्द-ए-जुर्म आइद किया गया है। उन्हें 30 नवंबर 2013 को गिरफ़्तार किया गया था।

TOPPOPULARRECENT