Tuesday , July 17 2018

विजय रुपानी के 19 मंत्रीयों में 6 पाटीदार, ओबीसी नदारद

गुजरात में बीजेपी की छठी बार सरकार बनी है. मुख्यमंत्री विजय रूपाणी सहित 10 कैबिनेट मंत्री और 10 राज्यमंत्रियों ने मंगलवार को शपथ ली. रूपाणी कैबिनेट में पाटीदारों की बादशाहत रही बरकरार, लेकिन ओबीसी समुदाय को पूरी तरह से दरकिनार कर दिया गया.

गुजरात की नई सरकार में सिर्फ एक ओबीसी समुदाय के विधायक को कैबिनेट मंत्री बनाया गया है, लेकिन कोली समाज को कैबिनेट में जगह ही नहीं मिल सकी.

गुजरात में पाटीदार समुदाय की नाराजगी को दूर करने के लिए बीजेपी ने फिर ट्रंप कार्ड खेला है. रूपाणी सरकार में पाटीदार समुदाय के पांच कैबिनेट और एक राज्यमंत्री बनाए गए हैं.

इनमें डिप्टी सीएम नितिन पटेल, आरसी फालदू, कौशिश पटेल, सौरभ पटेल और जयेश रादड़िया को कैबिनेट मंत्री बनाया गया है. राज्यमंत्री के रूप में पाटीदार समुदाय से किशोर कनानी को लिया गया है. जबकि इससे पहले वाली सरकार में पाटीदार समुदाय के 7 मंत्री शामिल थे.

गुजरात में 16 फीसदी पाटीदार समुदाय है. बीजेपी का ये परंपरागत वोटर माना जाता है. पाटीदार आरक्षण आंदोलन के चलते इस बार के विधानसभा चुनाव बीजेपी से पाटीदार वोटबैंक खिसका है.

ऐसे में बीजेपी ने उन्हें कैबिनेट में सबसे बेहतर भागीदारी देकर एक बार फिर से नाराजगी दूर करने की मंशा के तहत देखा जा रहा है.

रूपाणी सरकार के पार्ट-2 में ओबीसी समुदाय को उनकी भागीदारी के हिसाब से हिस्सेदारी नहीं मिली है. रूपाणी कैबिनेट में सिर्फ एक ओबीसी को कैबिनेट मंत्री बनाया गया है.

ओबीसी कोटे से दिलीप ठाकोर को कैबिनेट मंत्री बनाया गया है. चाणस्मा विधानसभा सीट से ठाकोर विधायक हैं. सूबे में करीब 54 फीसदी ओबीसी समुदाय है इसमें करीब 14 फीसदी ठाकोर समुदाय है.

इस बार के विधानसभा चुनाव में ठाकोर समुदाय ने बीजेपी को बड़ी तादाद में वोट दिया. मंत्रिमंडल में भी अच्छी खासी जगह मिलने की उम्मीद थी.

TOPPOPULARRECENT